भारत में वापसी होगी टिकटॉक की!

पिछले दिनों केंद्र सरकार ने एक इनोवेशन चैलेंज की घोषणा की थी। जब टिकटॉक सहित 59 चाइनीज ऐप प्रतिबंधित किए गए थे तब इसकी घोषणा की गई थी और देश भर के तकनीकी पेशेवरों या तकनीक के जानकार युवाओं से अपील की गई थी कि वे इन चाइनीज एप्स के देशी विकल्प तैयार करें। इसके लिए इनाम की भी घोषणा की गई थी। अभी उसका पता नहीं चल पाया है कि घरेलू स्तर पर क्या एप्स तैयार हुए हैं पर इस बीच ऐसा लग रहा है कि जल्दी ही टिकटॉक की भारत में वापसी हो सकती है।

दुनिया के सबसे बड़े उद्योगपतियों में से एक बिल गेट्स की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक को खरीदने की तैयारी कर रही है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें इसकी अनुमति दे दी है और इस ऐप पर पाबंदी को डेढ़ महीने के लिए टाल दिया है। उन्होंने वीचैट और टिकटॉक पर पाबंदी लगाने के फैसले पर दस्तखत तो कर दिए हैं पर साथ ही यह भी कह दिया है कि ये फैसला 45 दिन के बाद लागू होगा। इस बीच उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट को टिकटॉक से डील करने की हरी झंडी दे दी है।

पहले कहा जा रहा था कि माइक्रोसॉफ्ट चाइनजी ऐप टिकटॉक के सिर्फ अमेरिका ऑपरेशन को खरीदेगा पर अब ऐसी चर्चा है कि उसके ग्लोबल ऑपरेशन को खरीदने की बात हो रही है। माइक्रोसॉफ्ट की तरह से कंपनी के भारतीय मूल के सीईओ सत्या नडेला बात कर रहे हैं। उनको इस मामले मे किंगमेकर माना जा रहा है। माइक्रोसॉफ्ट ने जब लिंक्डइन का अधिग्रहण किया था तब भी नडेला ने उसमें बड़ी भूमिका निभाई थी।

सो, अगर सत्या नडेला की बातचीत के बाद माइक्रोसॉफ्ट और चीनी कंपनी की बात बन जाती है तो टिकटॉक का मालिकाना हक बिल गेट्स की कंपनी को मिल जाएगा और तब इसका ऑपरेशन अमेरिका में तो पहले की तरह चलता ही रहेगा, भारत में भी फिर से इसका कामकाज शुरू हो जाएगा। भारत ने चीनी कंपनी पर पाबंदी लगाई थी, जब अमेरिका की कंपनी उसे खरीद लेगी तो वह पाबंदी अपने आप खत्म हो जाएगी। ऐसा लग रहा है कि भारत के टिकटॉक यूजर्स भी इसी सौदे का इंतजार कर रहे हैं। तभी इस ऐप के विकल्प के तौर पर जितने ऐप आ रहे हैं उन्हें ज्यादा लोग इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। सबको उम्मीद है कि टिकटॉक की वापसी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares