विश्व मंच पर तानाशाहों के साथ भारत - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

विश्व मंच पर तानाशाहों के साथ भारत

will indias myanmar policy

संयुक्त राष्ट्र संघ में दो दिन पहले म्यामांर का मसला आया था। एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार में सैन्य तख्ता पलट के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया। माना जा रहा था कि बिना वोटिंग के एक राय से सभी 193 देश इसका समर्थन करेंगे। लेकिन ऐन मौके पर रूस और चीन की शह पर बेलारूस ने वोटिंग की मांग कर दी। वोटिंग के दौरान म्यांमार के सैन्य तख्ता पलट की आलोचना करने और म्यांमार को हथियारों का आपूर्ति पर रोक लगाने के प्रस्ताव का 119 देशों ने समर्थन किया और बेलारूस ने विरोध किया, जबकि 35 देश वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया। वोटिंग में हिस्सा नहीं लेने वाले देशों में भारत भी है।

कहा जा सकता है कि भारत पहले भी ऐसे मसले पर वोटिंग से गैरहाजिर रह चुका है। लेकिन अभी अभूतपूर्व स्थिति है। एक तरफ भारत सरकार के मंत्री अपनी बात के हर दूसरे वाक्य में कह रहे हैं कि कोई भारत को लेक्चर न दे क्योंकि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और दूसरी ओर पड़ोस के देश में लोकतंत्र का चीरहरण हो गया और भारत उसका परोक्ष समर्थन कर रहा है। दूसरी अहम बात यह है कि संयुक्त राष्ट्र संघ में वोटिंग से गैरहाजिर रहने वाले देशों में भारत तानाशाही वाले देशों रूस और चीन के साथ खड़ा है। क्या इससे म्यांमार का सैन्य शासन चीन को छोड़ कर भारत के प्रति सद्भाव दिखाएगा? इसकी संभावना कम है लेकिन यह हो सकता है कि भारत के सरकारी कारोबारी के बंदरगाह का काम म्यांमार में आसानी से चलता रहे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *