आयोग से कौन बचाएगा विपक्ष को? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

आयोग से कौन बचाएगा विपक्ष को?

केंद्रीय चुनाव आयोग ने इस बार वह काम किया है, जिसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। उसने पश्चिम बंगाल के चुनाव में शहीद जवानों का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। आयोग ने एक विज्ञापन छपवाया है, जिसमें अमर जवान ज्योति की फोटो लगी है और कार्टूनिस्ट आरके लक्ष्मण का कॉमन मैन वहां श्रद्धांजलि देता दिख रहा है। इस फोटो के साथ आयोग ने यह भी लिखवाया है कि ‘वे देश के लिए अपना जीवन बलिदान करते हैं, आप देश के लिए वोट नहीं कर सकते’। यह समझना मुश्किल है कि विज्ञापन चुनाव आयोग ने दिया है या भाजपा ने? कोई भी पार्टी शहीद सैनिकों या सेना का इस्तेमाल वोट मांगने के लिए करती है तो आयोग से उसकी शिकायत की जाती है। लेकिन यहां तो आयोग ने ही शहीद सैनिकों के नाम का इस्तेमाल करके देश के लिए वोट डालने को कहा है! अब तक भारतीय जनता पार्टी शहीद सैनिकों के नाम पर वोट मांगती थी। पिछले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाओं में मंच की पृष्ठभूमि में पुलवामा के शहीद सैनिकों की फोटो लगा कर वोट मांगे गए थे।

यह भी क्या संयोग है कि छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में सुरक्षा बलों के 23 जवान शहीद हुए और उसके बाद चुनाव आयोग ने एक विज्ञापन जारी कर दिया, जिसमें शहीद सैनिकों की शहादत के नाम पर वोटों से वोट डालने की अपील की जा रही है। यह भी क्या महज संयोग है कि शहीद सैनिकों के नाम का नैरेटिव भाजपा का आईटी सेल पिछले सात साल से बनाए हुए है। किसी भी बात पर नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना होती है तो कहा जाता है कि सीमा पर जवान शहीद हो रहे हैं आपको पेट्रोल-डीजल के दाम की पड़ी है या आपको रोजगार की पड़ी है या महंगाई की पड़ी है! उसी तर्ज पर आयोग ने कहा कि सैनिक अपना जीवन बलिदान करते हैं, और आप वोट नहीं कर सकते! यह इस बात का स्पष्ट नमूना है कि कैसे चुनाव आयोग भाजपा के राष्ट्रवाद के एजेंडे को हवा दे रहा है और प्रदेश के नागरिकों को परोक्ष रूप से भाजपा के पक्ष में वोट डालने के लिए प्रेरित कर रहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *