प्रशांत किशोर का प्रबंधन कितना काम आएगा? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

प्रशांत किशोर का प्रबंधन कितना काम आएगा?

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस मुश्किल दौर से गुजर रही है। ममता बनर्जी की सरकार और पार्टी दोनों कई तरफ से घिरे हैं। एक तरफ केंद्र सरकार का दबाव है, जिसकी वजह से दोनों सरकारों के बीच मोर्चा खुला है तो दूसरी ओर भाजपा की सक्रियता ने तृणमूल कांग्रेस को मुश्किल में डाल रखा है। एक एक करके तृणमूल कांग्रेस के नेता नाराजगी जाहिर कर रहे हैं और पार्टी छोड़ने की मंशा दिखा रहे हैं। पार्टी के बेहद मजबूत नेता और राज्य सरकार में मंत्री रहे सुवेंदु अधिकारी के सरकार से इस्तीफा देने के बाद से तृणमूल के आला नेताओं की चिंता बढ़ी है। असल में तृणमूल के 10 साल के राज में कई कारणों से उसके नेता नाराज हैं। उनमें एक कारण यह भी है कि ममता ने पार्टी का चुनाव प्रबंधन प्रशांत किशोर के हाथ में दिया है।

सुवेंदु अधिकारी भी प्रशांत किशोर से नाराज थे। उन्हें मनाने के लिए प्रशांत उनके घर भी गए, लेकिन वहां सुवेंदु उनसे नहीं मिले। उनके पिता से ही मिल कर प्रशांत किशोर को लौटना पड़ा। अब एक और मंत्री राजीब बनर्जी नाराज हो गए हैं। प्रशांत किशोर उनको भी मनाने की कोशिश में लगे हैं। पिछले दिनों पार्टी के महासचिव पार्था चटर्जी के आवास पर राजीब बनर्जी को बुलाया गया था, जहां प्रशांत भी मौजूद थे। वहां बनर्जी की नाराजगी दूर करने का प्रयास किया गया। इसमें कितनी कामयाबी मिलती है, अभी नहीं कहा जा सकता है। इस बीच खबर है कि प्रशांत किशोर की टीम के सर्वे कराने और उस आधार पर टिकट तय करने की बात से पार्टी के कई नेताओं को टिकट कटने की आशंका है और वे खुल कर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});