राजनीति| नया इंडिया|

चुनाव टले रहे तो क्या करेंगी ममता?

यह एक काल्पनिक सवाल है पर बहुत मौजू हैं कि अगर पश्चिम बंगाल में विधानसभा के उपचुनाव टले रहे तो और कोरोना वायरस की महामारी के वजह से चुनाव आयोग ने अगले छह महीने तक चुनाव ही नहीं कराया तो ममता बनर्जी क्या करेंगी? ध्यान रहे कोरोना वायरस की महामारी के बीच चुनाव कराने को लेकर आयोग को बड़ी गालियां पड़ी हैं। अदालतों से लेकर मीडिया तक ने आयोग को कठघरे में खड़ा किया है। ऊपर से चुनाव के बाद से बंगाल में भाजपा और तृणमूल का जैसा टकराव चल रहा है वह अभी खत्म होता नहीं दिख रहा है।

सो, चुनाव आयोग भी आहत है और भाजपा व केंद्र सरकार तो आहत है ही। अगर दोनों ने चुप्पी साध ली तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी क्या करेंगी? ध्यान रहे वे विधायक नहीं हैं। उनको छह महीने के अंदर किसी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ कर जीतना होगा। इसमें उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। चार-पांच सीटें वैसे ही खाली हो गई हैं और उनके लिए कोई भी विधायक सीट खाली कर देगा। पर कोरोना के बीच चुनाव कैसे होगा? उनके पास छह महीने का समय है पर उसके जरिए जरूरी है कि चुनाव आयोग पांच महीने में चुनाव की घोषणा करे। कहा जा रहा है कि अक्टूबर में वायरस की तीसरी लहर आ सकती है। बंगाल में अभी दूसरी लहर ही कब तक चलेगी, कह नहीं सकते। ऐसे में ममता के लिए मुश्किल हो सकती है। हालांकि इससे कोई बड़ा संकट नहीं खड़ा होगा लेकिन जिस तरह उनके चुनाव हारने की वजह से पार्टी डिमोरलाइज हुई उसी तरह की शर्मिंदगी की स्थिति आगे भी बन सकती है।

Latest News

श्रीनगर | Cloudburst in Kishtwar: जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में भारी बारिश (Heavy Rain) ने तबाही मचा दी है। यहां बादल फटने से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});