Where is NDA BJP एनडीए ज्यादा बिखरा हुआ है
राजरंग| नया इंडिया| Where is NDA BJP एनडीए ज्यादा बिखरा हुआ है

एनडीए ज्यादा बिखरा हुआ है

Where is NDA BJP

ममता बनर्जी ने सवाल उठाया था कि यूपीए कहा हैं? उसके बाद से लगातार यह बहस चल रही है कि यूपीए नहीं है, उसका कोई अध्यक्ष नहीं है, उसकी आखिरी बैठक कब हुई थी, किसी को याद नहीं है आदि आदि। अगर इस आधार पर गठबंधन का आकलन करना है तो फिर यह सवाल भी है कि एनडीए कहां है? उसका अध्यक्ष कौन है और उसकी आखिरी बैठक कब हुई थी? असलियत यह है कि एनडीए भी सिर्फ कागज पर ही है और इसमें शामिल रही पार्टियों के गठबंधन से अलग होने पर विचार करेंगे तो पता चलेगा कि यह यूपीए से ज्यादा बिखरा है।

भाजपा के साथ गठबंधन में रही सबसे पुरानी दो सहयोगी पार्टियां उससे अलग हो गई हैं और दोनों पार्टियों के साथ भाजपा की घनघोर दुश्मनी चल रही है। भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी शिव सेना थी, जो जिस दिन एनडीए पहली बार बना था उस दिन से उसमें शामिल थी लेकिन अब वह कांग्रेस के साथ है। पहले एनडीए के समय से साथ रही दूसरी पुरानी सहयोगी पार्टी अकाली दल ने भी भाजपा से पल्ला झाड़ लिया है। अब तो भाजपा पंजाब में अकाली दल को ही तोड़ने में सबसे ज्यादा मेहनत कर रही है।

Read also दिल्ली की रैली जयपुर कैसे पहुंची?

अटल बिहारी वाजपेयी के समय पहले बने पहले एनडीए से भाजपा के साथ रही चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी भी कब की अलग हो गई है। एक समय ओमप्रकाश चौटाला की इनेलो और कुलदीप बिश्नोई की हरियाणा जनहित कांग्रेस भी भाजपा के साथ थी लेकिन अब ये दोनों भी अलग हैं। एक और पुरानी सहयोगी झारखंड की आजसू है, जिसने 2019 का विधानसभा चुनाव भाजपा से अलग होकर लड़ा था। हाल तक भाजपा की सहयोगी रही सुहेलदेव भारतीय समाज  पार्टी ने भी उसका साथ छोड़ दिया है और सपा से तालमेल कर लिया है। वैसे जानकारी के लिए बता दें कि 2014 के बाद से ही अमित शाह एनडीए के चेयरमैन हैं और 2004 के बाद से सोनिया गांधी यूपीए की चेयरपर्सन हैं।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पंजाब में अब 20 फरवरी को मतदान
पंजाब में अब 20 फरवरी को मतदान