regional party two CMs दो सीएम वाली क्षेत्रीय पार्टी कौन होगी?
राजरंग| नया इंडिया| regional party two CMs दो सीएम वाली क्षेत्रीय पार्टी कौन होगी?

दो सीएम वाली क्षेत्रीय पार्टी कौन होगी?

regional party two CMs

अभी देश में कोई क्षेत्रीय पार्टी ऐसी नहीं है, जिसकी एक से ज्यादा राज्य में सरकार हो। कांग्रेस और भाजपा को छोड़ कर किसी पार्टी का एक से अधिक राज्य में मुख्यमंत्री नहीं है। किसी जमाने में वामपंथी पार्टियों के तीन राज्य में मुख्यमंत्री होते थे लेकिन वह भी अब एक छोटी प्रादेशिक पार्टी में तब्दील हो गई है, जिसकी सिर्फ एक राज्य में सरकार है और एक ही मुख्यमंत्री है। अगले दो-तीन महीने में पांच राज्यों में और फिर साल के अंत में दो राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। सो, सवाल है कि क्या कोई प्रादेशिक पार्टी एक से ज्यादा राज्य में सरकार बना पाएगी? यह कारनामा करने वाली पहली क्षेत्रीय पार्टी कौन होगी? regional party two CMs

क्या अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी यह कारनामा कर सकती है या ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पहली पार्टी होगी, जिसकी दो राज्यों में सरकार होगी और दो मुख्यमंत्री होंगे? आम आदमी पार्टी इस बार पंजाब में बहुत जोर लगा रही है। पिछली बार भी आप का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा था। वह चुनाव भले नहीं जीत पाई थी लेकिन उसने लगातार 10 साल तक सत्ता में रहे अकाली दल को पीछे धकेल कर मुख्य विपक्षी पार्टी बन गई थी। इस बार तमाम चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में आप के अच्छे प्रदर्शन की संभावना जताई जा रही है। अगर पंजाब में आप जीतती है तो केजरीवाल को बाकी सारे प्रादेशिक नेताओं के ऊपर बढ़त मिलेगी। वे कांग्रेस और भाजपा के बाद दो मुख्यमंत्री वाली पार्टी के पहले नेता बन जाएंगे।

Read also डर से ज्यादा सावधानी की जरूरत

ममता बनर्जी को इसके लिए इंतजार करना होगा। उनकी पार्टी गोवा में जरूर बहुत जोर लगा रही है लेकिन ऐसी कोई स्थिति बनती नहीं दिख रही है कि उनकी पार्टी सरकार बना ले और उनका मुख्यमंत्री हो जाए। हां, यह संभव है कि उनकी पार्टी एक-दो सीट जीते और त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में सरकार में शामिल हो जाए। यह स्थिति आप की भी हो सकती है। ममता के लिए सबसे अच्छी संभावना त्रिपुरा और मेघालय में है, लेकिन उन दोनों राज्यों में 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं। वे पूर्वोत्तर के राज्यों में तोड़-फोड़ में भी लगी हैं लेकिन सरकार बनाने लायक कामयाबी नहीं मिल पाई है।

इसलिए ममता से पहले केजरीवाल के लिए यह संभावना है कि उनकी पार्टी पंजाब में चुनाव जीते और दिल्ली के बाद दूसरे राज्य में सरकार बनाए। दोनों राज्य भले छोटे हैं लेकिन दो राज्यों में सरकार वाली पार्टी को ज्यादा तवज्जो मिलेगी। इसके अलावा संभव है कि गोवा, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भी आम आदमी पार्टी को कुछ सीटें मिलें। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ तालमेल में आप को भी सीट मिलेगी उस पर उसका प्रदर्शन अच्छा रहेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
जनरल रावत की मौत की जांच रिपोर्ट आई सामने, किसी साजिश के तहत नही बल्कि पायलट के स्थानिक भटकाव के कारण हुई दुर्घटना में मौत
जनरल रावत की मौत की जांच रिपोर्ट आई सामने, किसी साजिश के तहत नही बल्कि पायलट के स्थानिक भटकाव के कारण हुई दुर्घटना में मौत