बंगाल में पांच अगस्त को लॉकडाउन क्यों?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अगस्त महीने की लॉकडाउन की घोषणा खुद की। उन्होंने एक से 31 अगस्त के बीच जिन नौ तारीखों को पूरी तरह से लॉकडाउन होगा, उसकी जानकारी खुद दी। इसमें सारे सप्ताहांत हैं। यानी शनिवार और रविवार को लॉकडाउन रहेगा। इसमें पहले शनिवार यानी एक अगस्त को लॉकडाउन नहीं होगा क्योंकि उस दिन बकरीद है। इसी तरह 29 और 30 अगस्त को शनिवार और रविवार होने के बावजूद लॉकडाउन नहीं होगा क्योंकि इसमें से किसी एक दिन मुहर्रम है। इसके बदले अगले दिन 31 अगस्त सोमवार को लॉकडाउन होगा। जाहिर है ममता बनर्जी मुसलमानों के त्योहारों का खास ख्याल रख रही हैं और इसलिए उन्होंने कोरोना से लड़ाई में भी दो दिन उनके लिए छूट देने का फैसला किया। इसलिए भाजपा को बड़ी आसानी से इसे मुद्दा बनाने का मौका मिल गया।
बकरीद और मुहर्रम पर लॉकडाउन नहीं होगा इससे भी ज्यादा बड़ा मुद्दा यह बन रहा है कि पांच अगस्त को ममता ने लॉकडाउन किया है। पहले सप्ताहांत में यानी एक और दो अगस्त में सिर्फ दो अगस्त को लॉकडाउन है। क्योंकि एक अगस्त को बकरीद है। ममता की सरकार ने एक अगस्त की भरपाई के लिए तीन अगस्त को लॉकडाउन नहीं रखा, बल्कि पांच अगस्त को रखा। भाजपा का कहना है कि पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने का एक साल पूरा हो रहा है, जिसके मौके पर भाजपा को कार्यक्रम करने हैं और दूसरे, उस दिन अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर का शिलान्यास होना है इसलिए ममता ने उस दिन बुधवार होने के बावजूद लॉकडाउन कर दिया ताकि भाजपा के लोग बाहर निकल कर कार्यक्रम न कर सकें। ध्यान रहे राज्य में अगले साल चुनाव हैं और उससे पहले भाजपा ऐसी बातों का मुद्दा बनाएगा यह ममता को ध्यान रखना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares