कैबिनेट विस्तार फिर टलेगा क्या? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

कैबिनेट विस्तार फिर टलेगा क्या?

मलमास शुरू होने में अब सिर्फ आठ दिन बचे हैं। 15 दिसंबर से लेकर 14 जनवरी तक मलमास का महीना होता है, जिसमें हिंदू मान्यता के हिसाब से कोई शुभ काम नहीं होता है। सो, भारतीय जनता पार्टी और उसकी सहयोगी पार्टियों के जो नेता केंद्र सरकार में मंत्री बनने की आस लगाए बैठे हैं उनकी चिंता बढ़ गई है। उनको लग रहा है कि अगर 14 दिसंबर तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैबिनेट विस्तार नहीं करते हैं तो कम से कम एक महीने तक और इंतजार करना पड़ेगा। उसके बाद भी बजट सत्र शुरू होने की आपाधापी रहेगी और अगर बजट सत्र से पहले विस्तान नहीं हुआ तो मामला सरकार की दूसरी सालगिरह तक टलेगा।

मंत्री बनने की उम्मीद लगाए नेताओं को कैबिनेट विस्तार टलने का अंदेशा इसलिए भी दिख रहा है क्योंकि इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार की प्राथमिकताएं दूसरी दिख रही हैं। सरकार इस समय सिर्फ कोरोना वायरस की वैक्सीन की बात कर रही है। कोरोना की वजह से वैसे भी सरकार के कामकाज ज्यादातर ठप्प हैं। वैक्सीन की चर्चा से जो समय बच रहा है वह किसान आंदोलन में जा रहा है। पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ दो घंटे तक बैठक की। उसके बावजूद किसानों के साथ बातचीत में कोई समाधान नहीं निकल सका।

वैसे भी यह माना जा रहा है कि इस समय किसान आंदोलन के बीच में शायद ही सरकार में फेरबदल या विस्तार का काम होगा। किसानों का आंदोलन बहुत जल्दी खत्म होता दिख नहीं रहा है। नौ दिसंबर को छठे दौर की वार्ता है पर कोई दावा नहीं कर सकता है कि उसमें समाधान निकल जाएगा। सो, ज्यादा संभावना इसी बात की दिख रही है कि 14 जनवरी तक कैबिनेट का विस्तार टलेगा। पहले कहा जा रहा था कि बिहार विधानसभा के चुनाव नतीजों के बाद प्रधानमंत्री मोदी सरकार में विस्तार करेंगे। लेकिन उसके नतीजे आए भी एक महीने होने जा रहे हैं और कहीं से सरकार में फेरबदल की सुगबुगाहट नहीं है। कोरोना की वैक्सीन के हल्ले और किसान आंदोलन के बीच अगले एक हफ्ते में सरकार में फेरबदल शायद ही हो।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *