Loading... Please wait...
ताजा पोस्ट सुर्खिया
काबुल में विस्फोट, 20 मरे, 300 घायल
चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों से हराया
यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र दो साल बढ़ी
केरल में पशु वध पर सोनिया, राहुल से माफी की मांग
आरसीए चुनाव के परिणाम दो जून को घोषित किये जाये
बाबरी मामला : आडवाणी, जोशी व अन्य को जमानत मिली
बांग्लादेश में तूफान ‘मोरा’ ने दी दस्तक
आडवाणी, जोशी कोर्ट में पेश होने के लिए लखनऊ रवाना
सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल खतरे की घंटी: मैक्रोन
जापान में बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 घायल
रूस में तूफान, 11 मरे
मोदी ने की मर्केल से मुलाकात
भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज नहीं हो सकती: खेल मंत्री
बैल काटे जाने पर कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता निलंबित
पीएम मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

रिपोर्टर डायरी

अंग्रेंजो को भी पिछाड़ती एनडीए सरकार

सोचा तो था कि कर्नल पुरोहित या तीन तलाक पर लिखूंगा मगर इधर चाय का प्याला मुंह से लगाया ही था कि भाजपा के एक वरिष्ठ नेता का जिन्हें पंजाब की बेहद गहन और पढ़ें....

हिंदू सिख को विभाजित करती सरकार!

जब मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर तमाम चैनलों और अखबारों ने सरकार के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड जारी किया तो मैंने उसे पढ़ना तक जरूरी नहीं समझा। मेरा और पढ़ें....

बुढ़े नहीं रमते वानप्रस्थ में!

इधर विजयपत सिंघानिया का अपने बेटे व रेमंड कंपनी के प्रमुख गौतम सिंघानिया के साथ चल रहे टकराव का मामला ठंडा भी नहीं पड़ने पाया था कि देश की सबसे बड़ी सूचना और पढ़ें....

अमेरिका में गुलामी सर्मथकों की मूर्तियां

अमेरिका भले ही सात समंदर पार हो मगर वहां एक ऐसा विवाद उठ खड़ा हुआ है, जिसका भारत को हाल में ही सामना करना पड़ा है। भाजपा के सत्ता में आने के बाद तमाम सड़कों और और पढ़ें....

करमों को भोगते विजयपत सिंघानिया!

बचपन में एक कहानी पढ़ी थी कि एक बुढ़िया अक्सर अपना कमरा बंद करके अपना छोटा सा संदूक हिलाती डुलाती थी, जिससे कि छन-छन की आवाज आती थी। उसके बेटे बहुएं उसकी और पढ़ें....

अंग्रेज राजः वायसराय रहते थे कडकी में।

आजादी की वर्षगांठ पर उन अंग्रेंजो को कभी नहीं भुलाया जा सकता है जिन्होंने लंबे अरसे तक इस देश पर शासन किया था। अगर इतिहास पर नजर डाले तो पता चलता है कि तब और पढ़ें....

बिखर गई शरद-केसी की जोड़ी

जब केसी त्यागी को शरद यादव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई किए जाने का संकेत देते हुए सुना तो अपनी आंखें और कानों पर विश्वास ही नहीं हुआ। मैं इन दोनों को और पढ़ें....

बेरहमी, बेशर्मी और बेहूदगी की इंतहा

जब चंद्रशेखर प्रधानमंत्री थे तो वे अक्सर कहा करते थे कि सत्ता सख्ती से चलती है। उनका दावा था कि उनकी इसी सख्ती के चलते राजीव गांधी की हत्या के बाद देश में और पढ़ें....

आजादी की लड़ाई में कुंओं की भूमिका

भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ मनाना निश्चित तौर पर गर्व की बात है मगर इसके साथ ही हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इसकी तह में 1857 की वह क्रांति छिपी हुई थी और पढ़ें....

मूंछ की लड़ाई में हारे दाढ़ी वाले!

राज्यसभा की एक सीट हथियाने के लिए सत्तारूढ भाजपा इतनी ज्यादा हाय तौबा मचाएगी और अंततः हारेगी इसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी। गुजरात में जो कुछ हुआ उसे और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 163)

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd