Loading... Please wait...

बाबाओं का भक्त लगाते है चूना!

हनीप्रीत की गिरफ्तारी के साथ ही अब यह चर्चा शुरू हो गई है कि उसके पकड़ में आने के बाद बाबा राम रहीम का क्या होगा? वह पुलिस व दूसरी जांच एजेंसियों को क्या जानकारी देगी? फिलहाल तो अगर हाल के घटनाक्रम पर नजर डाले तो पता चलेगा कि जब भी किसी चर्चित बाबा के बुरे दिन आए और वह अंदर गया तो उसके उन करीबी लोगों ने ही सबसे ज्यादा दिक्कतें पैदा की जो कि उसके सबसे ज्यादा विश्वासपात्र हुआ करते थे। 

नवीनतम मामला आसाराम बापू का है जो कि लंबे अरसे से जेल में है और अब उनकी जमानत करवाने तक की कार्रवाई में काफी ढील आ गई है। तमाम बाबाओं की सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि वे अपनी लच्छेदार बातों से जनता को बेवकूफ बना कर उसकी जेबें ढीली करवा कर पैसा तो कमा लेते हैं मगर उसे कहां लगाया जाए यह समस्या पैदा हो जाती है। आमतौर पर यह पैसा वे अपने विश्वासपात्र बिल्डरों, गुटका निर्माताओं और सुनारों के यहां लगाते आए हैं। इससे उनका दो नंबर का पैसा खप जाता है। वह सुरक्षित रहता है और उस पर अच्छा खासा मुनाफा भी मिलता रहता है। 

अगर कभी बुरे दिन आए तो सरकार के लिए यह पता लगा पाना मुश्किल हो जाता है कि उसने कितना माल कमाया था। राम रहीम के मामले में भी ऐसा ही है। उसको करीब से जानने वालों का कहना है कि उसने भी अपनी तमाम कमाई ऐसे ही लोगों के जरिए निवेश की हुई है। अतः लाख कोशिशों के बाद भी यह पता नहीं चल सकेगा कि उसका पैसा किसने व कहां लगाया था।

आसाराम बापू के बारे में हाल में उसके एक बेहद करीबी ने चौंकाने वाला रहस्योदघाटन किया। जिसके मुताबिक जिन लोगों से यह अपेक्षा की जाती थी कि वे उसे जेल से बाहर लाने में मदद करेंगे उन्होंने ही अपना मुंह जान बूझकर फेर लिया है। हुआ यह कि आसाराम बापू की जमानत करवाने के लिए उनके कुछ करीबी भक्तों ने राजधानी के एक जाने माने सिंधी वकील से संपर्क किया। यह वकील बहुत मोटी फीस लेते हैं। उनके कुछ शिष्य इस वकील से मिले और उससे कहा कि हमें हर कीमत पर बापू को बाहर लाना है। 

उसने कहा कि वह पूरा दम लगा देगा और उसके बाद उसने अपनी फीस बता दी जो करोड़ों में थी। उससे मिलने गए बाबा के भक्तों में करोलबाग का एक ज्वैलर व एक गुटका व्यवसायी भी शामिल था जिनके यहां आसाराम ने अपना पैसा लगा रखा था। वकील ने उनसे कुछ और दस्तावेज मांगें। बताते है कि इन भक्तों ने उस वकील को बहुत मोटी रकम एडवांस के रूप में दे दी और जरूरी दस्तावेज अगले कुछ दिनों में भेजने का वादा करके चले गए। 

वकील ने कई दिनों तक दस्तावेज आने का इंतजार किया। फिर उसने अपने पीए से इन लोगों से बात करने का कहा। जब उसके भक्तों से संपर्क किया तो वे बात टालने लगे। पहले कहते रहे कि हम लोग कागज जुटा रहे हैं। फिर साफ कह दिया कि फिलहाल हम लोग कुछ भी कर सकने में असमर्थ है। अगर बापू बाहर आए तो दिक्कतें और बढ़ जाएंगी। बताते है कि इन लोगों ने बाद में वकील का फोन तक उठाना बंद कर दिया और जो बहुत मोटी रकम एडवांस फीस के रूप में उसे दे आए थे उसकी वापसी तक की मांग नहीं की। 

आसाराम के करीबी एक भक्त के मुताबिक बापू ने इन लोगों के जरिए बेइंतहा निवेश किया हुआ है। उनके जेल जाने के बाद इनकी नियत बदल गई है। वे चाहते हैं कि वो अंदर ही रहे ताकि वे लोग उसका पैसा हजम कर जाएं। चूंकि सारी कमाई दो नंबर की है इसलिए उस पर कानूनी किसी की दावेदारी भी नहीं बनती है। यह न तो पहली घटना है और न ही आखिरी। 

कुछ साल पहले भी एक जाने-माने बाबा जो कि आसाराम बापू की तरह कथावाचक भी थे ऐसा ही धोखा हुआ था। उन्होंने अपनी पीए के साथ शादी कर ली थी। उसके यहां भी बहुत मोटा चढ़ावा चढ़ता था और वे कथा कहने की मोटी रकम लेने के साथ यह भी सुनिश्चित करते थे कि उनके मजमे में कम-से-कम 50,000 लोगों की भीड़ मौजूद हो। एक बार इस बाबा के कार्यक्रम में कोई व्यक्ति आया और उसने उसके चरणों में बहुत मोटी रकम चढ़ा दी। कई दिनों तक वह लगातार ऐसा ही करता रहा। बाबा कथा के बाद उसका लिफाफा खोल कर देखता और खुश हो जाता। 

एक दिन बाबा ने अपने एक शिष्य के जरिए उससे बाद में मिलने को कहा। वह व्यक्ति उससे मिलने पहुंचा और इस बार भी उसने बाबा के पैरों में एक मोटा लिफाफा रख दिया। बाबा ने इसकी वजह जाननी चाही तो उसने बताया कि वह एक बिल्डर है। जबसे उसने बाबा की भक्ति शुरू की है तबसे उसके मुनाफे में काफी बढ़ोतरी हुई है। भविष्य में वह कुछ मौटे ठेके लेना चाहता है। अगर सही निवेश कर दिया तो आराम से 15-20 फीसदी मुनाफा हो जाएगा। 

बताते है कि बाबा उसकी बातें सुन कर लालच में आ गया। अगले दिन वह उसकी मर्सीडीज में बैठकर उसके तीन एकड़ में बने फार्महाऊस में गया। वहां उसकी शान शौकत देखकर इतना प्रभावित हुआ कि उसके साथ धंधे की बाते करने लगा। उसके सामने वह व्यक्ति किसी से फोन पर हैलीकाप्टर खरीद की बातें कर रहा था। वह जोर देकर कह रहा था कि वे पैसे की चिंता न करे। उसे सिंगल नहीं बल्कि डबल इंजन वाला हैलीकाप्टर चाहिए। उसने बाबा को चांदी के बर्तनों में चाय, नाश्ता करवाया। करीब 10 तोले की सोने की चेन उन्हें पहनाई। इसके बाद बाबा ने उससे खुद कहा कि क्या वह अपने पैसे को भी उसके धंधें में लगा सकता है? 

उसने कहा कि आज कल धंधा मंदा है अतः 15 फीसदी तक रिटर्न मिल रहा है। भविष्य में यह राशि बढ़ भी सकती है। वह तो हर दिन के हिसाब से ब्याज अदा करता है। बाबा ने उसे अपने आश्रम बुलाकर बहुत मोटी रकम थमा दी। उसने दो दिनों बाद ही चंद लाख रुपए ब्याज के रुपये उन्हें थमा दिए। फिर एक दिन जाकर कहा कि वह हेली रोड पर एक कोठी का सौदा करना चाहता है जोकि कुछ सौ करोड़ रुपए की है। उसने 100 करोड़ जुटा लिए है जोकि एक नंबर के है। बाकी दो नंबर की रकम की जरूरत है। 

बाबा को कोठी के कथित कागजातों की फर्जी फोटोकापी भी दिखलाई और वहां से निकल आया। बाबा लालच में आ गए और अगले दिन उस बुला लिया और एकांत में इसमें निवेश करने की इच्छा जताई। उसने कहा कि वह तो ठीक है मगर मैं यहां फ्लैट बनाकर बेचना चाहता हूं। अतः पैसा वापस आने में करीब डेढ़ साल तक लग जाएंगे। वैसे भी यह एनडीएमसी का इलाका है। अतः एक मंत्री को भी इसमें भागीदार बनाया है। बाबा ललचा गया और उसने अगले कुछ दिनों में बिल्डर को बहुत मोटी रकम दे दी। वह उसके आश्रम में कुछ दिनों तक आता रहा। 

उसने उसे तिरुपति बालाजी का प्रसाद लाकर खिलाया और उसे भूमि पूजन का निमंत्रण लेकर उसके पास पहुंचा और कहा कि कौन सा दिन शुभ होगा और क्या वे खुद इस अवसर पर वहां मौजूद रहेंगे? बाबा ने हां कहने पर निमंत्रण पत्र छपवाया जो कि ताम्रपत्र पर छपा था। उस पर कई मंत्रियों के नाम भी छपवाए और बाबा के चरणों में उसे रख कर ऐसा गयाब हुआ कि आज तक वापस नहीं लौटा। बाबा खून का घूंट पीकर रह गया। यह ऐसा मामला था जिसकी वह किसी से चर्चा भी नहीं कर सकता था। आसाराम के सामने यही हो रहा है व राम रहीम भी उसी दिशा में बढ़ रहा है।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

374 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

अबु सलेम को उम्र कैद!

कोई 24 साल पहले मुंबई में हुए और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd