Corona Vaccine: कोवैक्सीन की तुलना में कोविशील्ड टीके से बनती है ज्यादा एंटीबॉडी, अध्ययन में हुआ खुलासा

Must Read

नयी दिल्ली | भारत में कोरोना के टीके को लेकर एक बहस काफी दिनों से छिड़ी हुई है. बहस का कारण है भारत मेंम लगाई जा रही कोवैक्सीन और कोविशील्ड में कौन सबसे ज्यादा प्रभावित करती है. अब इस मसले पर एक ताजा रिपोर्ट में ये साफ हो गया है कि कोवैक्सीन की तुलना में कोविशील्ड टीके से ज्यादा एंटीबॉडी बनती है, हालांकि दोनों ही टीकों को प्रतिरक्षा को मजबूत करने वाला माना गया है. एहतियात के तौर पर दोनों टीकों की खुराकें ले चुके स्वास्थ्यकर्मियों पर किए गए अध्ययन में यह बात सामने आयी है. बता दें कि अभी ये अध्ययन अभी प्रकाशित नहीं हुआ है और इसे ‘मेडआरएक्सिव’ पर छपने से पहले पोस्ट किया गया है.

देश के 515 स्वास्थयकर्मियों का लिया गया था सैंपल

इसकी जांच के लिए देश के 13 राज्यों के 22 शहरों के 515 स्वास्थ्यकर्मियों को शामिल किया गयाथा. इनमें से 305 पुरुष और 210 महिलाएं थीं. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविशील्ड टीके का निर्माण कर रही है. वहीं हैदराबाद स्थित कंपनी भारत बायोटेक, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) के साथ तालमेल से कोवैक्सीन का निर्माण कर रही है. अध्ययन में शामिल होने वालों के खून के नमूनों में एंटीबॉडी और इसके स्तर की जांच की गयी. जिसमें पाया गया कोवैक्सीन लेने वाले लोगों की तुलना में कोविशील्ड लेने वाले लोग ज्यादा सुरक्षित थे साथ ही उन्के शरीर में एंटीबॉडी की अच्छी मात्रा देखी गई थी.

इसे भी पढें- Corona संक्रमित हुए Ram Rahim से अस्पताल मिलने पहुंची हनीप्रीत, देखभाल के लिए बनवाया अटेंडेंट कार्ड

दोनों वैक्सीनें कर रही हैं काम कोविशील्ड ज्यादा प्रभावी

अध्ययन में मुख्य भूमिका निभाने वाले अवधेश कुमार सिंह ने ट्वीट किया कि ‘‘दोनों खुराक लिए जाने के बाद दोनों टीकों ने प्रतिरक्षा को मजबूत करने का काम किया. हालांकि, कोवैक्सीन की तुलना में सीरो पॉजिटिविटी दर और एंटीबॉडी स्तर कोविशील्ड में ज्यादा रहा.’’ कोवैक्सीन की खुराकें लेने वालों की तुलना में कोविशील्ड लेने वाले ज्यादातर लोगों में सीरो पॉजिटिविटी दर अधिक थी. बताया गया कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन की खुराकें लेने वाले लोगों में सीरो पॉजिटिविटी दर क्रमश: 98.1 प्रतिशत और 80 प्रतिशत थी.यहां बता दें कि सीरो पॉजिटिविटी का संदर्भ किसी व्यक्ति के शरीर में बनने वाली एंटीबॉडी से है.

इसे भी पढें- Sonakshi Sinha और Riteish Deshmukh पहली बार दिखेंगे साथ, डर के बीच लगाएंगे प्यारभरा तड़का

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

rajasthan : अजमेर की वर्षा ने पेश की बलिदानी की मिसाल, कैंसर पीड़ितों के चेहरे पर खुशी लाने के लिए दान किए बाल

ajmer: राजस्थान के कण-कण में बसा है बलिदान और साहस। फिर बात अमृता देवी की हो या महाराणा प्रताप...

More Articles Like This