Loading... Please wait...

प्रगति मैदान में हुनर हाट शुरु

नई दिल्ली। देश में हुनर के उस्ताद करीगरों , दस्तकारों और शिल्पकारों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बाजार उपलब्ध कराने के लिए यहां प्रगति मैदान में आयोजित भारत अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेंले में ‘हुनर हाट’ मंगलवार से शुरु हो गया जो 27 नवम्बर तक चलेगा।

अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने संवाददाता सम्मेलन में बताया कि ‘हुनर हाट’ में 20 राज्यों के 130 से अधिक कारीगर, दस्तकार और शिल्पकार हिस्सा लें रहे हैं जो छोटे स्तर पर कार्य करने वाले लाखों करीगरों से जुड़े हैं। इनमें लगभग 30 महिला दस्तकार भी शामिल हैं। नकवी हुनर हाट का कल औपचारिक रुप से उद्घाटन करेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व में आयोजित हुनर हाट को मिली व्यापक सफलता और इससे कलाकारों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़े पैमाने पर मिले आडर के कारण इसका फिर से आयोजन किया गया है। इसमें हस्तशिल्प के अलावा हस्तकरघा के बेहतरीन उत्पादों को प्रदर्शित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से विरासत में मिले हुनर को लुप्त होने से बचाने में मदद मिलने के साथ साथ इसके प्रति लोगों में रुझान बढा है और लोग इसमें रोजगार तलाशनले लगे हैं।

नकवी ने कहा कि इस बार के हुनर हाट में असम के बेंत,बांस एवं जूट के उत्पाद, भागलपुर के टसर, गीजा, मटका सिल्क, राजस्थान एवं तेलंगना की परम्परागत लाख की चूड़ियां और गहने, पश्चिम बंगाल का कांथा वर्क, वाराणसी के जरीदार वस्त्र और उत्तर प्रदेश के लखनवी चिकन वर्क एवं जरी जरदोजी कें वस्त्र प्रदर्शित किये जा रहे हैं।

इसके अलावा खुर्जा के चीनी मिट्टी के उत्पाद, उत्तर पूर्व की चिकनी मिट्टी के उत्पाद, काले पत्थर के बर्तन, कश्मीर के शाल, कारपेट और कागज की बनी वस्तुएं, चमड़े के उत्पाद, घास से बनी टोकरियां तथा कई अन्य उत्पाद भी प्रदर्शित किये गये हैं। नकवी ने कहा कि मोदी सरकार के आने के बाद तीन हुनर हाट का आयोजन किया गया है जिनमें से दो दिल्ली में और एक पुड्डुचेरी में लगाये गये। इनमें लगभग 40 लाख दर्शक आये। उन्होंने कहा कि हरेक हुनर हाट में नये नये कारीगरों को अवसर दिये गये हैं और राज्यों से इसके लिए मदद ली गयी है।

उनका कहना था कि हुनर के उस्ताद काफी गरीब लोग हैं जो दूरदराज से अपने उत्पादों की बिक्री के लिए अपने खर्चे पर दिल्ली या अन्य स्थानों पर नहीं जा सकते। उनके मंत्रालय ने इन कारीगरों को मुफ्त में जगह उपलब्ध करायी है और आने जाने का किराया भी दिया है।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

43 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

मुख मैथुन से पुरुषों में यह गंभीर बीमारी

धूम्रपान करने और कई साथियों के साथ मुख और पढ़ें...

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd