Yashpal Sharma Death: Yashpal Sharma की जुदाई में कपिल देव के फूट पड़े आंसू
खेल समाचार | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Yashpal Sharma Death: Yashpal Sharma की जुदाई में कपिल देव के फूट पड़े आंसू

नहीं रहे 1983 के विश्व कप में इंग्लैंड के छक्कें छुड़ाने वाले Yashpal Sharma, जुदाई में कपिल देव के फूट पड़े आंसू

Yashpal Sharma Death

नई दिल्ली | Yashpal Sharma Passed Away : 1983 विश्व कप के सितारे रहे दिग्गज क्रिकेटर यशपाल शर्मा (Yashpal Sharma Death) का आज मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। जब इस बात का पता पूर्व भारतीय और विश्व कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) को चला तो उनके भी आंसू फूट पड़े और वे रोने लगे। और क्यूं न रोए, उनका एक इतना बड़ा मित्र जो अचानक से चला गया। 66 साल के Yashpal Sharma अपने पीछे परिवार में पत्नी, दो पुत्रियां और एक पुत्र को छोड़ गए।

ये भी पढ़ें:- दिग्गज क्रिकेटर Yashpal Sharma का हार्ट अटैक से निधन, 1983 वर्ल्ड कप में किया था शानदार प्रदर्शन

Yashpal Sharma Death:  काफी समय तक भारतीय टीम में साथ-साथ खेले यशपाल शर्मा और कपिल देव के बीच काफी अच्छे संबंध रहे हैं। एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान पूर्व कप्तान कपिल देव को जब अपने साथी यशपाल शर्मा के निधन की खबर पता चली तो वे अपने आंसू नहीं रोक पाए और लाइव शो के दौरान ही रोने लगे। उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात का विश्वास ही नहीं हो रहा है कि यशपाल अब इस दुनिया से चले गए हैं। कपिल देव ने कहा कि वह अंतिम दर्शन करने के लिए मुंबई से दिल्ली वापस आ रहे हैं। उन्होंने अपने भावुक मन से अपने साथी को याद करते हुए कहा कि ‘आई लव यू यश…. पारी शानदार खेली’। यशपाल शर्मा को क्रिकेट जगत सहित राजनीतिक जगत के दिग्गजों ने शोक संवेदनाएं दी है।

ये भी पढ़ें:- सचिन और धोनी के बाद अब ‘सौरव गांगुली की बायोपिक’ की तैयारी, जानें कौन बनेगा स्क्रीन पर ‘दादा’

वहीं, भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी दिलीप वेंगसरकर ने भी अपने साथी यशपाल शर्मा के चले जाने पर गहरा दुख जताया है। विश्व कप के सेमीफाइनल में यशपाल शर्मा की इंग्लैंड टीम के खिलाफ खेली गई शानदार पारी हर किसी के लिए भुलाना मुश्किल है।

यशपाल शर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ टीम का सर्वाधिक स्कोर बनाकर भारत को 1983 के विश्वकप के फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी जिसके बाद भारत ने वर्ल्डकप ट्राॅफी अपने नाम कर इतिहास रचा था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *