गांगुली बनेंगे बीसीसीआई के अध्यक्ष

मुंबई। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल के अध्यक्ष सौरव गांगुली का भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड, बीसीसीआई का अध्यक्ष बनना तय हो गया है। बीसीसीआई के लिए हो रहे चुनावों में नामांकन भरने का आखिरी दिन सोमवार को था। उस दिन अध्यक्ष पद के लिए सिर्फ गांगुली ने नामांकन भरा। इसके बाद कांग्रेस नेता और आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ल ने कहा कि गांगुली बीसीसीआई के अध्य़क्ष बनेंगे और उसका ऐलान 23 अक्टूबर को होगा। पिछले 65 साल के बोर्ड के इतिहास में गांगुली सबसे योग्य और सक्षम प्रशासक होंगे। उन्होंने चार सौ से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं।

वे भारत के सबसे बेहतरीन कप्तान रहे हैं और दुनिया के सर्वकालिक महान कप्तानों में उनकी गिनती होती है। उन्होंने नामांकन के बाद सोमवार को कहा कि उनके लिए यह कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है क्योंकि वे ऐसे समय में बोर्ड की कमान संभालने जा रहे हैं जब उसकी छवि काफी खराब हुई है। ध्यान रहे गांगुली ने जब भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी संभाली थी तब भी टीम की हालत बेहद खराब थी और कई बड़े खिलाड़ियों के ऊपर मैच फिक्सिंग के आरोप लगे थे।

नामांकन के बाद गांगुली ने कहा- मैं ऐसे समय में कमान संभालने जा रहा हूं जब पिछले तीन साल से बोर्ड की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। इसकी छवि बहुत खराब हुई है। मेरे लिए यह कुछ अच्छा करने का सुनहरा मौका है। वे महज दस महीने के लिए बीसीसीआई के अध्यक्ष बनेंगे। लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के मुताबिक कोई भी व्यक्ति लगातार छह साल ही किसी संगठन का अध्यक्ष रह सकता है। गौरतलब है कि गांगुली पिछले पांच साल दो महीने से क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल के अध्यक्ष हैं।

बीसीसीआई का अध्यक्ष पद संभालने की गारंटी हो जाने के बाद उन्होंने सोमवार को कहा- पहले मैं सभी से बात करूंगा और फिर फैसला लूंगा। मेरी प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा। मैं तीन साल से सीओए से भी यहीं कहता आया हूं लेकिन उन्होंने नहीं सुनी। सबसे पहले मैं प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की आर्थिक स्थिति दुरूस्त करूंगा।

इससे पहले गांगुली ने शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। यह पूछने पर कि पश्चिम बंगाल में चुनाव में क्या वे भाजपा के लिए प्रचार करेंगे, उन्होंने नहीं में जवाब दिया। उन्होंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है। मुझसे किसी ने कुछ नहीं कहा। बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया का जिक्र आने पर भावुक हुए गांगुली ने कहा- मैने कभी सोचा नहीं था कि इस पद पर मैं भी काबिज होऊंगा। वे मेरे लिए पितातुल्य थे। उन्होंने कहा- बीसीसीआई के कई बेहतरीन अध्यक्ष हुए हैं, श्रीनिवासन, अनुराग जिन्होंने अच्छा काम किया। यह कप्तानी से अलग होगा, यह पूछने पर गांगुली ने कहा- भारतीय टीम का कप्तान होने से बढ़ कर कुछ नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares