ओलंपिक शूटिंग दल में जगह बनाना मुश्किल : मेहुली - Naya India
खेल समाचार| नया इंडिया|

ओलंपिक शूटिंग दल में जगह बनाना मुश्किल : मेहुली

नई दिल्ली। राष्ट्रमंडल खेलों की रजत पदक विजेता निशानेबाज़ मेहुली घोष ने कहा है कि अगले वर्ष होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिये भारत के निशानेबाज़ी दल में जगह बनाना उनके लिये काफी चुनौतीपूर्ण है। 19 साल की मेहुली ने कहा,“भारत का ओलंपिक के लिये निशानेबाजी दल मार्च में विश्वकप के बाद चुना जाएगा।

ऐसे में टीम में जगह बनाना बहुत मुश्किल है। लेकिन मैं सभी टूर्नामेंटों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिये प्रयास कर रही हूं। उसके बाद देखते हैं क्या होता है। हालांकि मैं अच्छे की उम्मीद कर रही हूं।” मेहुली ने कहा,“मुझे लगता है कि 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा काफी उच्च स्तर का वर्ग है। अंजुम मुद्गिल, अपूर्वी चंदीला दोनों हर टूर्नामेंट में लगभग एक ही तरह का स्कोर कर रही हैं।

इसे भी पढ़ें :- रिकार्डबुक में दर्ज हुए हिटमायेर और होप

हमारे बीच स्पर्धा काफी मुश्किल है और यह हमें और बेहतर खेलने में मदद करता है।” भारतीय महिला टीम की 10 मीटर एयर राइफल टीम की खिलाड़ी मेहुली ने गत वर्ष की तुलना में कहीं बेहतर प्रदर्शन दिखाया, उन्होंने इस वर्ष दक्षिण एशियाई खेलाें में भी स्वर्ण जीता था जबकि अंजुम मुद्गिल ने 2018 विश्व चैंपियनशिप में रजत जीता था। निशानेबाजी टूर्नामेंटों में अपनी एकाग्रता बनाये रखने के बारे में मेहुली ने कहा,“मैं संगीत सुनती हूं। वाद्य संगीत मुझे काफी पसंद है और वह आपको खेलों में एकाग्रता बनाये रखने में मददगार होता है।

मेरे कोच जॉयदीप करमाकर लगातार मेरी प्रेरणा बनाये रखते हैं जिससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ता है।” गुवाहाटी में 9-22 जनवरी तक चलने वाले खेलो इंडिया खेलों के तीसरे संस्करण को अच्छा कदम बताते हुये मेहुली ने कहा,“मैंने इस वर्ष खेलो इंडिया टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था और मेरे लिये यह बढ़िया अनुभव रहा। पुणे के एक ही स्टेडियम में इतने सारे खेलों का आयोजन देखना बढ़िया अनुभव था। मुझे अहसास हुआ कि कैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक ही जगह पर इतने सारे खेल आयोजित होते हैं। युवाओं के लिये यह बढ़िया अनुभव रहा।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *