nayaindia Harbhajan Singh announces retirement : राजनीति के पिच पर नए सफर की
खेल समाचार| नया इंडिया| Harbhajan Singh announces retirement : राजनीति के पिच पर नए सफर की

हरभजन सिंह ने खेल के सभी प्रारूपों से लिया संन्यास, राजनीति के पिच पर हो सकती है नए सफर की शुरुआत

Harbhajan Singh announces retirement

delhi |  भारत के सबसे सफल गेंदबाजों में से एक, हरभजन सिंह ने पेशेवर क्रिकेट में 23 साल बाद खेल के सभी प्रारूपों से आधिकारिक तौर पर संन्यास की घोषणा की। जालंधर के 41 वर्षीय खिलाड़ी ने अपने करियर में टीम इंडिया के लिए 103 टेस्ट, 236 वनडे और 28 टी20 खेले। हरभजन ने शुक्रवार (24 दिसंबर) को एक ट्विटर पोस्ट में लिखा कि सभी अच्छी चीजें समाप्त हो जाती हैं और आज जब मैं उस खेल को अलविदा कह रहा हूं जिसने मुझे जीवन में सब कुछ दिया है, मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने इस 23 साल की लंबी यात्रा को सुंदर और यादगार बनाया। मेरा दिल से धन्यवाद। में सभी का दिल से आभारी हूं। 1998 में पदार्पण करने वाले हरभजन ने टेस्ट में 417 विकेट और एकदिवसीय मैचों में 269 विकेट लिए। ऑफ स्पिनर 2011 के 50 ओवर के विश्व कप के साथ-साथ भारत के साथ 2007 टी 20 विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा थे। टर्बनेटर के नाम से प्रसिद्ध हरभजन राजनीति के मैदान पर अपने नए सफर की शुरुआत कर सकते हैं। कुछ समय पहले ही उनकी तस्वीर पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के साथ वायरल हुई थी। ऐसी खबरें हैं कि हरभजन पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का दामन थाम विपक्ष के छक्के छुड़ा सकते है। (Harbhajan Singh announces retirement) 

also read: Uttar Pradesh : राहुल गांधी ने कहा-अब तो नमामि गंगे परियोजना के प्रमुख ने माना की दूसरी लहर के दौरान…

मैं भारत की जर्सी में क्रिकेट को अलविदा कहना चाहता 

 हरभजन ने एक वीडियो संदेश में कहा कि जब भी मैंने भारतीय जर्सी पहनी है और मैदान पर कदम रखा है तो मेरे लिए इससे बड़ी प्रेरणा कोई नहीं रही। लेकिन जीवन में कुछ बिंदु ऐसे होते हैं जब आपको कुछ कड़े फैसले लेने पड़ते हैं। मैं पिछले कुछ वर्षों से एक घोषणा करने की योजना बना रहा था और आज मैं खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा करता हूं। मैं पिछले कुछ समय से सक्रिय क्रिकेट से दूर था। लेकिन मैं कोलकाता नाइट राइडर्स के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के कारण आधिकारिक तौर पर अपनी रिटायरमेंट की घोषणा नहीं कर सका। हालांकि, आईपीएल 2021 के दौरान मैंने अपना मन बना लिया था कि मैं अपनी संन्यास की घोषणा करूंगा। सभी क्रिकेटरों की तरह, मैं भारत की जर्सी में क्रिकेट को अलविदा कहना चाहता हूं। लेकिन नियति के पास मेरे लिए कुछ और ही था। मैंने जिस भी टीम के लिए खेला है, मैंने अपनी टीम को शीर्ष पर सुनिश्चित करने के लिए अपना 100 प्रतिशत दिया है। चाहे वह टीम इंडिया हो, पंजाब रणजी टीम, मुंबई इंडियंस, चेन्नई सुपर किंग्स, कोलकाता नाइट राइडर्स, सरे या एसेक्स काउंटी।

 टेस्ट क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाला पहला भारतीय गेंदबाज ( Harbhajan Singh announces retirement) 

हरभजन ने 1998 में शारजाह में न्यूजीलैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैच के दौरान भारत में पदार्पण किया।आखिरी बार मार्च, 2016 में ढाका में संयुक्त अरब अमीरात के खिलाफ एक टी20ई के दौरान देश के लिए खेला था। उनके अंतरराष्ट्रीय करियर में सबसे यादगार पलों में से एक था जब उन्होंने मार्च, 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों में 32 विकेट लिए, जिसमें एक भारतीय द्वारा पहली टेस्ट हैट्रिक भी शामिल थी। भज्जी ने एमआई, सीएसके और केकेआर के लिए अपने करियर में 163 मैचों में 150 आईपीएल विकेट लिए। आईपीएल के 2019 सीज़न में, हरभजन ने चेन्नई सुपर किंग्स में एमएस धोनी के नेतृत्व में 11 मैचों में 16 विकेट लिए। मेरे क्रिकेट करियर में खुशी का सबसे बड़ा क्षण था जब मैंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ईडन गार्डन में हैट्रिक ली। उस उपलब्धि ने मुझे सबसे ज्यादा खुशी दी क्योंकि मैं टेस्ट क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाला पहला भारतीय गेंदबाज बन गया। फिर मैंने उस सीरीज के 3 टेस्ट मैचों में 32 विकेट चटकाए, जो अब भी एक रिकॉर्ड है। उन्होंने कहा कि उसके बाद 2007 और 2011 विश्व कप जीतना मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि थी, जिसे मैं शब्दों में बयां भी नहीं कर सकता। (Harbhajan Singh announces retirement) 

Leave a comment

Your email address will not be published.

nine + 20 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पाकिस्तान का यही सच
पाकिस्तान का यही सच