ओलम्पिक विजेताओं की पुरस्कार राशि में भारी बढ़ोत्तरी

जयपुर। ओलम्पिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को तीन करोड़ रुपये रजत पदक को दो करोड़ रुपये और कांस्य पदक जीतने वाले को एक करोड़ रुपये मिलेंगे।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज विधानसभा में वर्ष 2020-21 के बजट में खेलों को प्रोत्साहन देने के लिये पुरस्कार की राशि बढ़ाने का प्रस्ताव किया है।

बजट प्रस्ताव पेश करते हुए गहलोत ने कहा कि राज्य में खेलों को बढ़ावा देने के लिये बजट में विशेष प्रावधान के प्रस्ताव किये गये हैं, इसके तहत ओलम्पिक पदक विजेताओं को दी जाने वाली पुरस्कार राशि में भारी बढ़ोत्तरी करने का प्रस्ताव किया गया है। उन्होंने बताया कि ओलम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने पर खिलाड़ियों को अब तक 75 लाख रुपये, रजत पदक जीतने पर 50 लाख और कांस्य पदक जीतने पर 30 लाख रुपये प्रदान किये जाते थे।

इसे भी पढ़ें :- नागौर घटना पर तत्काल कार्रवाई करे राजस्थान सरकार: राहुल

उन्होंने कहा कि इसी तरह एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक विजेताओं को 30 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये, रजत पदक विजेताओं को 20 लाख से बढ़ाकर 60 लाख रुपये और कांस्य पदक जीतने पर 10 लाख से बढ़ाकर 30 लाख रुपये करना प्रस्तावित है। गहलोत ने कहा कि राज्य खेल प्रतियोगिता के आयोजन से खेलों में राज्य का प्रदर्शन बेहतर हुआ, लिहाजा ग्राम स्तर पर प्रतिभाओं को तलाशने के लिये राज्य खेल की तर्ज पर ब्लाॅक एवं जिला स्तरीय खेलों का आयोजन किया जाना प्रस्तावित है।

वर्ष 2020 में आयोजित होने वाले खेलों के लिये पांच करोड़ रुपये का प्रावधान का प्रस्ताव किया गया है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष क्रिकेट और हैंडबॉल जैसे खेलों को भी ब्लॉक, जिला एवं राज्य स्तरीय खेलों में शामिल करने का प्रस्ताव किया गया है।

गहलोत ने कहा कि बजट में विभिन्न खेलों के 500 प्रशिक्षक संविदा पर लगाये जाना का प्रस्ताव किया है जिन पर 10 करोड़ रुपये सालाना व्यय होगा। उन्होंने कहा कि राज्य के खिलाड़ियों को राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने पर मिलने वाले दैनिक भत्ते की दरों को 500 से बढ़ाकर एक हजार रुपये एवं 300 से बढ़ाकर छह सौ रुपये करने का प्रस्ताव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares