विशाखापट्टनम वनडे : भारत जीता, सीरीज 1—1 से बराबर - Naya India
खेल समाचार| नया इंडिया|

विशाखापट्टनम वनडे : भारत जीता, सीरीज 1—1 से बराबर

विशाखापट्टनम। भारत ने बुधवार को एसीए-वीडीसीए स्टेडियम में खेले गए दूसरे वनडे मैच में अपने एकतरफा खेल की बदौलत वेस्टइंडीज को 107 रनों से हरा दिया। इसी के साथ भारत ने तीन मैचों की सीरीज में 1-1 से बराबर कर ली है।

रोहित शर्मा (159), लाकेश राहुल (102), श्रेयस अय्यर (53), ऋषभ पंत (39) की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के बूते भारत ने पहले बल्लेबाजी का न्यौत मिलने पर 50 ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 387 रनों का विशाल स्कोर बोर्ड पर टांग दिया।

बल्लेबाजों के बाद गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन कर इस लक्ष्य का सफलतापूर्वक बचाव किया और मेहमान टीम को 43.3 ओवरों में 280 रनों पर समेट दिया। भारत के लिए कुलदीप यादव ने इस मैच में हैट्रिक ली और वह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दो हैट्रिक लेने वाले भारत के पहले गेंदबाज बन गए। उन्होंने इससे पहले कोलकाता में 21 सितंबर 2017 को आस्ट्रेलिया के खिलाफ हैट्रिक ली थी।

इस जीत में मोहम्मद शमी की भी अहम भूमिका रही जिन्होंने शै होप (78) और निकोलस पूरन (75) के बीच हो रही साझेदारी को समय रहते तोड़ दिया और यहीं से मैच भारत के पक्ष में पूरी तरह से लगने लगा। होप और पूरन ने चौथे विकेट के लिए 106 रनों की साझेदारी की। यह दोनों बल्लेबाज बड़े शॉट लगाकर भारत को थोड़ी चिंता में डाल रहे थे। कप्तान विराट कोहली ने शमी को गेंद थमाई और शमी ने पूरन को सीमा रेखा के पास कुलदीप के हाथों कैच आउट कर दिया। पूरन ने 47 गेंदों की आक्रामक पारी में छह चौके और इतने ही छक्के मारे। इसकी अगली गेंद पर शमी ने विंडीज के कप्तान केरन पोलार्ड को आउट कर विंडीज को पांचवां झटका दे मैच का रुख भारत की तरफ मोड़ दिया। यह दोनों विकेट 192 के कुल स्कोर पर गिरे।

बची कसर कुलदीव ने 33वें ओवर की आखिरी तीन गेंदों पर हैट्रिक से पूरी कर दी। कुलदीप ने पहले होप को कोहली के हाथों कैच कराया। अगली गेंद पर जेसन होल्डर बिना खाता खोले पंत द्वारा स्टम्पिंग कर दिए गए। ओवर की आखिरी गेंद पर कुलदीप ने अल्जारी जोसेफ को दूसरी स्लिप पर खड़े केदार जाधव के हाथों कैच करा हैट्रिक पूरी। इस हैट्रिक के बाद विंडीज का स्कोर 33 ओवरों में आठ विकेट के नुकसान पर 210 रन हो गया था। वनडे में भारत के लिए अभी तक चेतन शर्मा, कपिल देव, कुलदीप यादव और मोहम्मद शमी हैट्रिक ले सके हैं।

रवींद्र जडेजा ने खैली पिएर (21) और शमी ने कीम पॉल (46) को आउट कर भारत को जीत दिलाई।

विंडीज को शुरुआत भी अच्छी मिली थी। होप के साथ एविन लुइस (30) ने पहले विकेट के लिए 61 रन जोड़े। लुइस को शार्दूल ठाकुर ने आउट कर भारत को पहली सफलता दिलाई। पहले मैच में तूफानी शतक मारने वाले शिमरन हेटमायेर चार रनों के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए। रोस्टन चेज (4) को बोल्ड कर जडेजा ने विंडीज का स्कोर तीन विकेट पर 86 रन कर दिया। यहां से होप और पूरन ने टीम को मैच में बनाए रखा लेकिन शमी द्वारा साझेदारी तोड़ने के बाद मैच विंडीज की गिरफ्त से बाहर चला गया।

इससे पहले, विंडीज के कप्तान पोलार्ड का टॉस जीतकर भारत को बल्लेबाजी देने का फैसला उन पर भारी पड़ गया। चेन्नई की तरह ही पोलार्ड को लगा कि उनके गेंदबाज भारत के बल्लेबाजों पर नकेल कस लेंगे, लेकिन रोहित और राहुल इस मैच में दूसरे ही मूड में थे। रोहित और राहुल ने ताबड़तोड़ तरीके से बल्लेबाजी करते हुए विंडीज के गेंदबाजों को जमकर धोया और शतक जमाए।

इन दोनों ने भारत के लिए वनडे में पहले विकेट के लिए चौथी सबसे बड़ी साझेदारी की। दोनों ने मिलकर पहले विकेट के लिए 227 रन जोड़े। भारत के लिए वनडे में पहले विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी का रिकार्ड सचिन तेंदुलकर और सौरभ गांगुली के नाम है। इन दोनों ने 24 अक्टूबर 2001 में केन्या के खिलाफ पहले विकेट के लिए 258 रन जोड़े थे। दूसरे नंबर पर भी यही जोड़ी है, जबकि तीसरे नंबर पर अजिंक्य रहाणे और शिखर धवन हैं।

विंडीज को पहला विकेट हासिल करने के लिए पूरे 37 ओवरों तक इंतजार करना पड़ा। राहुल इस ओवर की आखिरी गेंद पर जोसेफ का शिकार बने। उनका कैच चेज ने लपका। उन्होंने अपनी 104 गेंदों की पारी में आठ चौके और तीन छक्के लगाए।

राहुल के जाने के बाद रोहित ने अपने 150 रन पूरे किए। इस बार फिर लग रहा था कि रोहित 200 का आंकड़ा छू लेंगे। लेकिन, शेल्डन कॉटरेल ने होप के हाथों कैच करा रोहित की पारी का अंत कर दिया। रोहित ने 138 गेंदों की अपनी पारी में 17 चौके और पांच छक्के मारे। कप्तान कोहली इस मैच में खाता नहीं खोल सके।

जब भारत के तीन अनुभवी बल्लेबाज पवेलियन बैठ चुके थे तो दो युवा खिलाड़ियों ने उनके द्वारा तैयार किए गए मंच का जमकर फायदा उठाया। रोहित-राहुल के बाद ऋषभ पंत और अय्यर ने तेजी से रन बनाए।

अय्यर ने अपना लगातार चौथा अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 32 गेंदों की पारी में तीन चौके और चार छक्कों की मदद से 53 रनों की पारी खेली। अय्यर ने जितने चौके और छक्के लगाए उतने ही पंत ने लगाए और सिर्फ 16 गेंदों में 39 रन बना डाले।

पहले पंत आउट हुए और फिर अय्यर। इन दोनों के जाने के बाद रनगति में थोड़ी गिरवाट आई। केदार जाधव 10 गेंदों पर तीन चौकों की मदद से 16 रन बनाकर नाबाद रहे। उन्होंने आखिरी ओवर में तीन चौके लगाकर भारत को 380 के पार पहुंचाया।

विंडीज के लिए कॉटरेल ने दो विकेट लिए। कीमो पॉल, जोसेफ और पोलार्ड के हिस्से एक-एक विकेट आया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow