खेल समाचार

आईपीएल 2021 : मुझे युवा खिलाड़ियों की बराबरी करनी होती है- एम. एस. धोनी

महेंद्र सिंह धोनी की फिटनेस की चर्चा सबके जुबां पर रहती है। हर कोई जानना चाहता है कि धोनी की फिटनेस इस उम्र में भी बरकरार कैसे है। 39 की उम्र में माही ने अपना जलवा कायम कर रखा है। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ सोमवार को खेले गए IPL मैच में धोनी ने विकेटों के बीच अपनी दौड़ से यह साबित कर दिखाया। धोनी ने माना कि उम्र बढ़ने के साथ फिटनेस बरकरार रखना आसान नहीं है। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी फ्री समय में प्रैक्टिस करते हुए नज़र आते है। क्रिकेट ही नहीं माही को प्रत्येक गेम खेलते हुए देखा जाता है। आइपीएल के प्रेक्टिस सैशन में भी माही को ताबड़तोड़ छक्के-चौकें लगाते हुए देखा जाते है। धोनी के फैंस ऐसा कहते है कि माही आज के युवा खिलाड़ियों से कम नहीं है। माही खुद भी यह चाहते है कि वह आज के युवा बल्लेबाज से फिट रहें। धोनी को आइडल मानने वाले भी यही चाहते है कि वे माही की तरह फिट रहे।

इसे भी पढ़ें Moeen Ali की ऑलराउंड क्षमता से Chennai Super Kings को मिली मजबूती : कोच स्टीफन फ्लेमिंग

मुझे युवा खिलाड़ियों की बराबरी करनी है- एम. एस धोनी

राजस्थान रॉयल्स और सीएसके के मैच के दौरान माही को दौड़ते हुए देखा गया। इस पर चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि उम्र बढ़ना और फिट रहना दो सबसे मुश्किल चीजे हैं।जब आप खेल रहे होते हैं तो नहीं चाहते कि कोई आपको अनफिट कहे। मुझे युवा खिलाड़ियों की बराबरी करनी होती है।वे काफी दौड़ते हैं। लेकिन यह हमेशा चुनौतीपूर्ण होता है।

टर्निंग ट्रेक पर फंसे रॉयल्स

धोनी ने कहा कि मैंने जो शुरुआती 6 गेंदें खेलीं वो किसी और मैच में शायद हमें भारी पड़ सकती थीं। हमने खुद में बदलाव किए उस लिहाज से काफी कुछ बदला है। धोनी ने इसके अलावा कहा कि बल्लेबाजी करते हुए उन्हें लगा कि उन्होंने कम रन बनाए हैं। लेकिन गेंद स्पिन हो रही थी जिससे वे राजस्थान रॉयल्स को हराने में सफल रहे।

राजस्थान रॉयल्स की अच्छी रही शुरुआत

शुरुआत में रॉयल्स की टीम एक समय अच्छी स्थिति में थी। लेकिन 10वें ओवर में जोस बटलर ने रविंद्र जडेजा पर छक्का जड़ा जिसके बाद गेंद बदलनी पड़ी। गीली गेंद की जगह सूखी गेंद आते ही स्पिनरों ने रॉयल्स को फिरकी के जाल में उलझा दिया और सुपरकिंग्स की टीम का पलड़ा भारी कर दिया।

सीएसके रही रॉयल्स पर भारी

19 अप्रेल को चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच खेले गये मैच में सीएसके ने जीत दर्ज की। सुपरकिंग्स के 189 रन के लक्ष्य का पीछा करती हुई रॉयल्स की टीम मोईन अली (3 विकेट) और जडेजा (2 विकेट) की बलखाती गेंदों के सामने 9 विकेट पर 143 रन ही बना सकी। चेन्नई सुपर किंग्स ने राजस्थान रॉयल्स को 45 रन से हराया। मोइन अली ने मैन ऑफ द मैच का खिताब जीता।

इसे भी पढ़ें IPL 2021 : स्पिनर Kuldeep Yadav को उम्मीद, कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए करेंगे दमदार प्रदर्शन

Latest News

PM Modi Meeting On jammu kashmir : PM Modi के बुलावे पर पहुंचने लगे कश्मीर के नेता, बैठक का काउंटडाउन शुरू
नई दिल्ली | PM Modi Meeting On jammu kashmir: प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में आज होने वाली बैठक पर देश भर के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा पोस्ट | देश | लाइफ स्टाइल | यूथ करियर

SC on 12Th Board : SC ने 12वीं की परीक्षा के लिए अड़ी आंध्र प्रदेश की सराकर से कहा- यदि एक भी बच्चे को कुछ हुआ तो फिर…

SC on 12Th Board

नई दिल्ली | SC on 12Th Board:  देश के ज्यादातर राज्यों में 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं स्थगित की जा चुकी इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने स्टेट बोर्ड ओर CBSE को यह निर्देश भी दिया है कि आने वाले 10 दिनों में परिणामों की घोषणा कर दी जाए. लेकिन अभी भी आंध्र प्रदेश अपनी परीक्षाओं को आयोजित करने को लेकर अड़ा हुआ है. अब आंध्र प्रदेश की जीत के आगे सुप्रीम कोर्ट में सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर राज्य के एक भी बच्चे को कुछ भी हुआ तो उसकी सारी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी. इसका खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहें. उसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने आंध्र प्रदेश की सरकार को किसी भी बच्चे के कोरोना संक्रमित होने और उसकी मौत पर एक करोड़ का मुआवजा तक चुकाने की बात कह डाली.

10 दिन के अंदर 31 जुलाई तक जारी करें परिणाम

SC on 12Th Board: सुप्रीम कोर्ट ने आंध्र प्रदेश की सरकार को यह साफ कर दिया कि जब तक बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं की जाती तब तक राज्यों में 12वीं बोर्ड की परीक्षा के लिए अनुमति नहीं देगा. इधर 12वीं के परिणामों में हो रही देरी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीएसई की तर्ज पर राज्य सरकार को बोर्ड के परिणामों की घोषणा करनी चाहिए. सभी स्टेट बोर्ड के ढीले रवैए पर एतराज जताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 10 दिनों के अंदर 31 जुलाई तक नतीजों की घोषणा कर दें.

इसे भी पढ़ें – जो भी नागरिक वैक्सीन नहीं लगवाएगा वह भारत जा सकता है- फिलीपिंस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते की धमकी

SC on 12Th Board

कोर्ट ने पूछा आंध्र सरकार से यह सवाल

Justice m khanwilkar और Dinesh Maheshwari की पीठ ने आंध्र प्रदेश की सरकार से यह जानने का प्रयास किया कि वह आखिर फिजिकल परीक्षा क्यों लेना चाहता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जब देश में कोरोना का नया खतरनाक वैरीअंट चल रहा है तो फिर बच्चों की जिंदगी से रिस्क क्यों लेना है. कोर्ट में आंध्र प्रदेश की सरकार को सख्त चेतावनी देते हुए कहा कि यदि परीक्षा के आयोजन से एक भी बच्चे की मौत होती है तो वह राज्य सरकार को एक करोड़ के मुआवजे का आदेश देगी.

इसे भी पढ़ें- अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के एकाउंट से 18 लाख 55 हजार का हुआ था ‘कॉल गर्ल’ को भुगतान, जानें क्या है मामला

Latest News

aaPM Modi Meeting On jammu kashmir : PM Modi के बुलावे पर पहुंचने लगे कश्मीर के नेता, बैठक का काउंटडाउन शुरू
नई दिल्ली | PM Modi Meeting On jammu kashmir: प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में आज होने वाली बैठक पर देश भर के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *