खेल समाचार

आईपीएल 2021 : केएल राहुल ने टी 20 में पूरे किए सबसे तेज 5000 रन, विराट और रोहित शर्मा को भी छोड़ा पीछे

आईपीएल 2021 का आगाज हो चुका है। सभी टीम अपना बेहतरीन प्रर्दशन कर रही है। इसी क्रम में आज  आईपीएल 2021 का 14वां मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद और पंजाब किंग्स के बीच खेला गया। यह मुकाबला चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेलागया। इस मैच में पंजाब ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी चुनी। लेकिन पंजाब ने इस मैच में कुछ खास महीं किया लेकिन के. एल. राहुल ने रिर्ड बना लिया।  20 ओवर खत्म होने से पहले ही 120 रनों पर ऑलआउट हो गई।लेकिन फिर भी पंजाब के कप्तान केएल राहुल ने इस मैच में एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। के. एल. राहुल बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक है। इंटरनेशनल मैचों में राहुल ने अपने नाम कई रिकॉर्ड दर्ज किए है।

इसे भी पढ़ें FIH: भारत और ग्रेट ब्रिटेन के बीच होने वाले हॉकी प्रो लीग मुकाबले स्थगित

केएल राहुल ने पूरे किए 5000 रन

इस मैच में केएल राहुल सिर्फ 4 रन बनाकर आउट हो गये। लेकिन केएल राहुल ने टी20 क्रिकेट में बतौर भारतीय सबसे तेज 5000 रन पूरे कर लिए है। राहुल ने इस मामले में विराट कोहली और रोहित शर्मा को भी पीछे छोड़ दिया है। राहुल के अब टी20 क्रिकेट की 143 पारियों में 5003 रन हो चुके हैं। इस दौरान उनका औसत 42 का रहा है जबकि उनका स्ट्राइक रेट 138 का है। वे अब तक लीग और इंटरनेशनल क्रिकेट में 4 शतक और 41 अर्धशतक ठोक चुके हैं।

क्रिस गेल के नाम है रिकॉर्ड

ओवरऑल टी20 में सबसे तेज 5 हजार रन बनाने का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के ताबड़तोड़ बल्लेबाज और आईपीएल में राहुल की ही टीम के खिलाड़ी क्रिस गेल के नाम पर है। उन्होंने 132 पारियों में ये कारनामा किया था। राहुल ने ऑस्ट्रेलिया के शॉन मार्श को इस मामले में पीछे छोड़कर दूसरे नंबर पर जगह बनाई। मार्श ने 144 पारियों में ऐसा किया था।

हैदराबाद रही पंजाब पर भारी

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पंजाब किंग्स ने 20 ओवर में पूरे 10 विकेट खोकर 120 रन बनाए हैं। हैदराबाद को जीत के लिए 121 रनों का लक्ष्य मिला था। हैदराबाद की ओर से तेज गेंदबाज खलील अहमद ने 21 रन देकर तीन विकेट झटके। पंजाब की ओर से मयंक अग्रवाल और शाहरुख खान ने 22-22 रन बनाए। लेकिन हैदराबाद ने बाजी मारी और 9 विकेट से जीत हासिल की।

इसे भी पढ़ें Corona : Social Media पर हेल्पलाइन नम्बरों की भरमार, जानें कितने मददगार

Latest News

स्वास्थ्य मंत्रालय सचिव राजेश के भूषण ने कहा-डरें नहीं , डेल्टा वैरिएंट के लिए भी प्रभावी है Covaxine और Covishild
नई दिल्ली | भारत में अब कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है. यही कारण है कि देश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोविड-19 अपडेटस | लाइफ स्टाइल

Corona से सिकुड़ रहे इंसानों के दिमाग के कई हिस्से, नई स्टडी में वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

नई दिल्ली। Coronavirus Damage Brain : दुनिया में कोहराम मचा रही कोरोना वायरस की महामारी अब और जटिल होती जा रही है। कोरोना की पहली से भी ज्यादा खतरनाक उसकी दूसरी लहर रही। कोविड-19 वायरस फेफड़ों और दिल पर तो असर करता ही है, लेकिन अब वैज्ञानिकों ने एक नई स्टडी के बाद नया खुलासा किया है जिसके अनुसार, कोरोना वायरस दिमाग पर भी बहुत बुरा आघात करता है। कोविड लोगों पर सिर्फ तनाव ही नहीं छोड़ रहा, बल्कि दिमाग के कई हिस्सों को सिकुड़ भी रहा हैं।

ये भी पढ़ें:- कोवैक्सीन को  WHO ने नहीं दी थी मंजूरी , थर्ड फेज के क्लिनिकल ट्रॉयल में पाया गया 77.6 प्रतिशत प्रभावी

कम बीमारी के बावजूद दिमाग पर गहरा असर
वैज्ञानिकों ने पहली बार कोविड-19 से पहले और बाद में दिमाग के स्कैन को स्टडी करने पर पाया कि, थोड़ी गंभीर बीमारी होने पर भी दिमाग पर गहरा असर देखा गया। हारवर्ड मेडिकल स्कूल की फिजिशन डॉ. अदिति नेरूरकर के मुताबिक, ब्रिटेन के वैज्ञानिकों की एक टीम ने यह स्टडी कर पता लगाया है कि कोरोना के बाद लिंबिक कॉर्टेक्स, हिपोकैंपस और टेंपोरल लोब सिकुड़ते पाए गए। दिमाग के इन हिस्सों से गंध/स्वाद, याद्दाश्त और भावनाएं नियंत्रित होती हैं। जबकि ये बदलाव ऐसे लोगों में सामने आए जिन्हें बीमारी कम थी और उन्हें अस्पताल में भी एडमिट नहीं होना पड़ा था।

ये भी पढ़ें:- corona vaccination offers : दिल्ली के इस रेस्टोरेंट्स में कोरोना वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिखाइए और 20 % छूट का फायदा उठाइए..

40 हजार लोगों का किया ब्रेन स्कैन
ब्रिटेन बायोबैंक ने संक्रमण की शुरुआत में 40 हजार लोगों का ब्रेन स्कैन किया था। 2021 में इनमें से 782 को दोबारा बुलाया गया। इन लोगों में से 394 कोरोना पॉजिटिव रह चुके थे। इनके दिमाग की बनावट और काम करने की प्रक्रियाओं को स्कैन किया गया तो नतीजों में दिमाग के कुछ हिस्से सिकुड़े पाए गए।

ये भी पढ़ें:- सावधान.. कोरोना वैक्सीन लगवा लें अन्यथा जाना होगा जेल

डेल्टा प्लस वेरिएंट कितना खतरनाक, डॉक्टर्स के पास नहीं कोई जानकारी!
वहीं दूसरी और अब कोरोना का डेल्टा प्लस वेरिएंट कितना खतरनाक होगा, इस बारे में डॉक्टर्स को भी कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है। एम्स के डॉक्टर के अनुसार, डेल्टा प्लस में अतिरिक्त म्यूटेंट K417N है, जो डेल्टा (B.1.617.2) को डेल्टा प्लस में बदल देता है। उन्होंने कहा कि ऐसी अटकलें हैं कि यह म्यूटेंट अधिक संक्रामक है और यह अल्फा संस्करण की तुलना में 35-60 फीसदी ज्यादा संक्रामक है। हालांकि, भारत में इसकी संख्या बहुत कम है।

Latest News

aaस्वास्थ्य मंत्रालय सचिव राजेश के भूषण ने कहा-डरें नहीं , डेल्टा वैरिएंट के लिए भी प्रभावी है Covaxine और Covishild
नई दिल्ली | भारत में अब कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है. यही कारण है कि देश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *