विजय हजारे ट्रॉफी : तमिलनाडु 252 पर ऑल आउट

बेंगलुरू। अपने चौथे खिताब की जुगत में लगी कर्नाटक ने शुक्रवार को एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेल जा रहे विजय हजारे ट्रॉफी वनडे टूर्नामेंट के फाइनल मैच में तमिलनाडु को 49.5 ओवरों में 252 रनों पर ढेर कर दिया। पांच बार की विजेता तमिलनाडु की बल्लेबाजी फाइनल मैच में तेज गेंदबाज अभिमन्यू मिथुन के सामने बिखर गई।

मिथुन ने पांच विकेट लिए जिसमें हैट्रिक भी शामिल है। इसी के साथ वह विजय हजारे ट्रॉफी में हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए हैं। मिथुन ने आखिरी ओवर में तीसरी, चौथी और पांचवीं गेंद पर लगातार तीन विकेट लिए। उन्होंने पहले शाहरूख खान (27), एम. मोहम्मद (0) और मुरुगुन अश्विन (0) को आउट कर तमिलनाडु को ऑल आउट कर अपनी हैट्रिक पूरी की।

वह इस टूर्नामेंट में हैट्रिक लेने वाले कर्नाटक के पहले गेंदबाज हैं। तमिलनाडु का शीर्ष क्रम पूरी तरह से विफल रहा। सिर्फ सलामी बल्लेबाज अभिनव मुकुंद ही विकेट पर टिक सके। उन्होंने टीम के लिए सबसे ज्यादा 85 रन बनाए। मुकुंद ने 110 गेंदों का सामना किया और नौ चौके मारे। मुकुंद के साथी मुरली विजय शून्य और हाल ही में टेस्ट मैच खेलकर लौटे रविचंद्रन अश्विन आठ रन बना सके। मुकुंद को बाबा अपराजित का साथ मिला। अपराजित ने 84 गेंदों पर 66 रन बनाए और मुकुंद के साथ तीसरे विकेट के लिए 124 रनों की साझेदारी की।

148 के कुल स्कोर पर प्रतीक जैन ने मुकुंद को पवेलियन भेजा। मुकुंद के बाद आए विजय शंकर ने 38 रन बनाकर टीम को मजबूत स्कोर तक पहुंचाने की कोशिश की, लेकिन 178 के कुल स्कोर पर अपराजित रन आउट हो गए और शंकर अकेले पड़ गए। कप्तान दिनेश कार्तिक 11, वॉशिंगटन सुंदर दो जल्दी पवेलियन लौट लिए। आखिरी ओवर में मिथुन ने हैट्रिक ले तमिलनाडु को ज्यादा आगे नहीं जाने दियाी। तमिलनाडु को अपना छठा खिताब जीतने के लिए अब कर्नाटक के मजबतू बल्लेबाजी क्रम को जल्दी समेटना होगा। मिथुन के अलावा वी. कौशिक ने दो विकेट लिए। प्रियम और कृष्णाप्पा गौतम ने एक-एक विकेट लिया।

इसे भी पढ़ें : डकार रैली-2020 में हिस्सा लेंगे फर्नाडो अलोंसो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares