गणतंत्र दिवस पर जीत के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया - Naya India
खेल समाचार| नया इंडिया|

गणतंत्र दिवस पर जीत के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

आकलैंड। भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड दौरे में विजयी शुरुआत से अपना मनोबल मजबूत कर लिया है और टीम इंडिया अब रविवार को गणतंत्र दिवस के दिन दूसरे टी-20 मुकाबले में जीत हासिल करने तथा पांच मैचों की सीरीज में अपनी बढ़त 2-0 करने के इरादे से उतरेगी।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टीम इंडिया के व्यस्त कार्यक्रम को लेकर चिंता जताई थी लेकिन पहला टी-20 मुकाबला जीतने के बाद उन्होंने कहा कि यह देखना सुखद है कि टीम ने न्यूजीलैंड में पहुंचने के 48 घंटे बाद ही जीत हासिल की।

इसे भी पढ़ें :- राहुल को खिलाने का फैसला टीम प्रबंधन का : गांगुली

भारत की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज 19 जनवरी को समाप्त हुई थी और अब उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ लगातार पांच टी-20 मैच खेलने हैं। भारत ने आकलैंड के इसी मैदान में पहले मुकाबले में हर लिहाज से शानदार प्रदर्शन किया और अपने टी-20 इतिहास में रिकॉर्ड चौथी बार 200 से ज्यादा लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा कर जीत हासिल की।

न्यूजीलैंड ने हालांकि 203 रन का मजबूत स्कोर बनाया लेकिन भारत ने 19 ओवर में ही मैच समाप्त कर दिया। इस जीत में टीम इंडिया के लिए सबसे सकारात्मक बात यही रही कि उसने 230 के स्कोर की तरफ बढ़ रही कीवी टीम को 203 तक सीमित कर दिया और लक्ष्य का पीछा करते हुए उसने मैच को आखिरी ओवर तक नहीं जाने दिया। भारत ने छह गेंद पहले ही मैच समाप्त कर दिया।

वर्ष 2020 टी-20 विश्व कप का वर्ष है और भारतीय टीम अपने संयोजनों का तालमेल बैठाने में लगी है। मध्य क्रम के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर भारत की चार नंबर की लम्बे समय से चली आ रही परेशानी को सुलझाने में सबसे उपयुक्त खिलाड़ी दिखाई दे रहे हैं। अय्यर ने चौथे नंबर पर उतरते हुए नाबाद 58 रन की मैच विजयी पारी खेली थी और प्लेयर ऑफ द मैच रहे थे।

इसे भी पढ़ें :- करण वाही और मैंने एक लंबा रास्ता तय किया है : शिखर धवन

अय्यर ने पहली बार विदेश जमीन पर कोई टी-20 मुकाबला खेला। वह जब क्रीज पर उतरे थे तो उनके कप्तान विराट आउट हो चुके थे। ये हालत किसी भी खिलाड़ी को दबाव में ला सकते थे लेकिन अय्यर ने संयम और आक्रमण का बेहतरीन तालमेल पेश किया और मेजबान टीम को हावी होने का कोई मौका नहीं दिया।

अय्यर की यह पारी भारतीय टीम प्रबंधन को आश्वस्त कर सकती है कि उसके पास ऐसा बल्लेबाज है जो शीर्ष और निचले क्रम के बीच धुरी का काम कर सकता है और टीम को संभाल सकता है। टीम के ओपनर लोकेश राहुल विकेटकीपर बल्लेबाज की समस्या का भी निदान करते नजर आ रहे हैं। राहुल की बेहतरीन बल्लेबाजी और विकेट के पीछे उनका ठीक-ठाक प्रदर्शन टीम को एक संतुलन दे रहा है

जो ऋषभ पंत के रहते नहीं मिल पा रहा था। राहुल की इस उपयोगिता ने पंत को फिलहाल एकादश से बाहर कर दिया है। पहले मैच की जीत में भारत की यदि कोई चिंता रही तो वह गेंदबाजी हो सकती है जिसने मैच में 200 से ज्यादा रन दे दिए लेकिन न्यूजीलैंड के मैदान छोटे हैं जहां बड़े स्कोर की उम्मीद की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें :- आस्ट्रेलियन ओपन : नडाल अंतिम-16 में, प्लिस्कोवा बाहर

भारतीय गेंदबाजों ने डैथ ओवरों में हालांकि अच्छी गेंदबाजी की और मेजबान टीम को 220-230 के स्कोर पर जाने से रोक दिया। विराट ने भी पहले मैच के बाद गेंदबाजों की तारीफ की कि उन्होंने कीवी टीम को 230 तक नहीं जाने दिया।

दूसरा मैच भी इसी मैदान पर है और भारतीय टीम अपने विजय रथ को दूसरे मुकाबले में भी दौड़ाने की कोशिश करेगी जबकि मेजबान टीम का प्रयास वापसी कर सीरीज में बराबरी हासिल करने का होगा।

न्यूजीलैंड के लिए इस हार में भी अच्छी बात यही रही कि उसके कप्तान केन विलियम्सन फॉर्म में लौट आ चुके हैं और केन सहित उसके तीन बल्लेबाजों ने अर्धशतक बनाये। लेकिन मेजबानों को अपनी गेंदबाजी को दुरस्त करना होगा ताकि वे भारतीय बल्लेबाजों पर अंकुश लगा सकें साथ ही उसके बल्लेबाजों को डैथ ओवरों में भारतीय यॉर्करमैन जसप्रीत बुमराह की गेंदबाजी से भी पार पाना होगा।

यह तय है कि इस सीरीज में बड़े स्कोर वाले मैच होंगे और टीमों को इसके लिए तैयार रहना होगा।

टीमें:

भारत- विराट कोहली (कप्‍तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, संजू सैमसन, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, रिषभ पंत, शिवम दुबे, रवींद्र जडेजा, वॉशिंगटन सुंदर, शार्दुल ठाकुर, मोहम्‍मद शमी, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, नवदीप सैनी और कुलदीप यादव।

न्यूजीलैंड- केन विलियम्सन (कप्तान), हैमिश बेनेट, मार्टिन गुप्तिल, स्कॉट कुगलेजन, डेरिल मिचेल, कॉलिन मुनरो, रॉस टेलर, ब्लेयर टिकर, मिशेल सेंटनर, टिम सिफर्ट, ईश सोढी , टिम साउदी, कॉलिन डी ग्रैंडहोम और टॉम ब्रूस।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *