खेल समाचार | ताजा पोस्ट | देश | पंजाब

पगड़ी के साथ वायुसेना का हेलमेट पहनने वाले भारत के पहले ‘फ्लाइंग सिख’ की अब ब्रिटेन के स्मारक में लगेगी प्रतिमा

New Delhi: भारत के सिख वीर का स्मारक ब्रिटने में बनेगा। इंग्लैंड के एक बंदरगाह शहर साउथंप्टन(Southampton)में विश्व युद्धों के दौरान अपनी जान गवांने वाले भारतीयों की याद में स्मारक (Memorial) बनाए जा रहे हैं. ताजा जानकारी के अनुसार अब इस स्मारक में लड़ाकू विमान (fighter plane) उड़ाने वाले पायलट (Pilot) हरदित सिंह मलिक (Hardit Singh Malik) का भी स्मारक बनाने की अनुमति दे दी गयी है. इसके लिए लगाई जाने वाली मूर्ति( Statue) का डिजाइन भी तैयार कर लिया गया है. साथ ही डिजाइन को मंजूरी दे दी गई है. बता दें कि हरदित को सिख फाइटर पायलट, क्रिकेटर (Cricketer) और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) के गोल्फर (Golfer)के तौर पर जाना जाता था.

इसे भी पढ़ें- कुश्ती रैंकिंग : रोम में स्वर्ण जीतने के बाद…

14 साल की उम्र में आक्सफोर्ड पहुंचे थे हरदित

प्रथम विश्व युद्ध( First world war) के समय भारत (India) स्वतंत्र नहीं हुआ था. इस विश्व युद्ध में भारत के कई जवानों ने इंग्लैंड की ओर से लड़ाई लड़ी थी, लाखों जवानों ने अपनी जान भी गंवा दी थी. हरदित सिंह के बारे में कहा जाता है कि वो शुरु से ही काफी प्रतिभाशाली थे. उन्होंने अपने माता पिता को बचपन में ही बता दिया था कि वो बड़े होकर एक पायलट बनना चाहते थे. हरदित पहली बार 14 साल की उम्र में आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के बैलिओल कालेज (Balliol College) पहुंचे थे. इसके साथ ही प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान रायल फ्लाइंग कोर के सदस्य बन गये. इसके बाद से ही हरदित विशेष हेलमेट के साथ पगड़ी पहनने वाले पहले पायलट थे. बाद में वे ‘फ्लाइंग सिख’ (Flying Sikh) के नाम से भी काफी प्रसिद्ध हुए.

इसे भी पढ़ें-साइना नेहवाल को पर्दे पर निभाना एक बड़ी जिम्मेदारी…

शहादत की याद दिलाएंगे स्मारक

इस स्मारक बनने के लिए अभियान चलाने वाली संंस्था वन कम्युनिटी हैंपशायर एंड डोरसेट (ओसीएचडी) है. ओसीएचडी (OCAHD) की ओर से कहा गया है कि इस प्रतिमा (Statue) से विश्वयुद्धों में ब्रिटिश सशस्त्र बलों में सिख समुदाय के भी योगदान का पता चलेगा. साथ ही ये हमारे वीर जवानों की शहादत (Martyrdom) याद दिलाएंगी. बता दें कि ब्रिटेन में आज भी कई भारतीय मूल के लोग रहते हैं. इन लोगों के द्वारा समय- समय पर विश्वयुद्धों में ब्रिटेन के लिए लड़ते हुए अपनी जान गंवाने वाले भारतीयों के लिए स्मारक बनाने की मांग उठती रहती है.

इसे भी पढ़ें- महिला दिवस पर पुलिस द्वारा दुष्कर्म का मामला विधानसभा…

कई क्षेत्रों में किया था काम

हरदित ने ससेक्स के लिए क्रिकेट (Cricket) भी खेला था. इसके साथ ही वे भारतीय सिविल सेवा (Civil Services) में भी शामिल रहे थे. हरदित ने बहुत ही कम समय में कई क्षेत्रों में काम किया था. बता दें कि हरदित फ्रांस में भारत के राजदूत (Ambassador of india) भी रहे थे. इन सबके बाद भी हरदित को 1917-19 के दौरान लड़ाकू विमान के एक पायलट के रूप में जाना जाता है. 23 नवम्बर 1894 को इनका जन्म पाकिस्तान के रावलपिंडी में हुआ था और 31 अक्टूबर 1985 को भारत के नई दिल्ली में इनका देहांत हुआ। करीब पन्द्रह साल तक वे प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेले थे.

इसे भी पढ़ें- महिला दिवस पर पिया से मिलेंगी दो दुल्हन, पाकिस्तान…

Latest News

खुले बालों में चीखती-चिल्लाती महिलाएं, अजीब व्यवहार करते पुरुष, यहां के भूत मेले में दूर-दूर से पहुंचते हैं लोग..
Bhoot Mela Ganga Ghat कानपुर | हमारे देश भारत में अंधविश्वास हमेशा से एक बड़ी समस्या रही है. एक बार फिर से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा पोस्ट | देश | हरियाणा

Corona Virus Third Wave : अब कोरोना की तीसरी लहर आना ना के बराबर- कृषि मंत्री जेपी दलाल

j p dayal

Corona Virus Third Wave :  भिवानी |  कोरोना की दूसरी लहर हाल ही में गुज़री है। और वैज्ञानिकों ने यह कह दिया था कि कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी। और आज पूरी दुनिया सातवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रही है। योग दिवस पर हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कोरोना पर एक बड़ी बात कह दी है।  कृषि मंत्री ने कहा है कि योग मनवता के लिए अच्छा स्वास्थ्य, मन व बुद्धि पाने का सबसे आसान व सस्ता तरीक़ा है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन व योग के चलते अब देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना नहीं रहेगी। कोरोना के मामले कम होने लगे है और सरकारों ने जनता को रियायत देनी भी शुरु कर दी है। लेकिन दिल्ली सहित कई राज्यों में ऐसे तस्वीरें सामने आई है जिसमें कोरोना गइडलाइन की धज्जियां उड़ाई जा रही है। ऐसी लापरवाही के चलते हम कोरोना की तीसरी लहर का स्वागत कर रहे है। तीसरी लहर को आने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। अगर हम ऐसे ही लापरवाह रहे तो। हमें सतर्क और सावधान रहना होगा साथ ही कोरोना गाइडलाइन का भी पालन करना होगा।

j. p. dayal

also read: Salute : एक ओर अपने बच्चे को तो दूसरी ओर वैक्सीन बांधे ग्रामीण इलाकों में टीके के लिए नदी पार कर जाती मानती की कहानी…

योग को दुनिया ने किया नमस्कार

भारत की संस्कृति व योग का दुनिया लोहा मानती है। योग करने से शरीर में एनर्जी रहती है और शरीर में एंटीबॉडी का विकास होता है। पीएम मोदी ने दुनिया को योग की ताक़त बताई तो बिते सात सालों से योग को अंतराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाने लगा। हालांकि महामारी के चलते इस बार भी योग दिवस पर कार्यक्रमों में लोगो की संख्या को सीमित रखा गया। भिवानी में 40 स्कूलों व 10 व्यायामशालाओं योग का कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिला स्तरीय समारोह सेठ किरोड़ीमल राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में मनाया गया। जहां सूबे के कृषि मंत्री जेपी दलाल मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे। इस दौरान कृषि मंत्री के साथ विधायक घनश्याम सर्राफ व डीसी जयबीर सिंह सहित कई अधिकारियों व गणमान्य लोगों ने योग किया। इस दौरान कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि हमारे योगी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनिया को योग की ताक़त बताई जिसके बाद योग दिवस अंतराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाता है। योग की ताकत को अब दुनिया मानती है।

International Yoga Day 2021

वैक्सीन का काम युद्धस्तर पर

कृषि मंत्री ने कहा कि नियमित योग से अच्छा स्वास्थ्य व मन के साथ अचछी विद्या हासिल की जा सकती है। साथ ही कहा कि महामारी का प्रभाव उन्हीं लोग पर ज्यादा पड़ा है जिनकी शारीरिक क्षमता कम थी। जो लोग इस महामारी में नियमित रूप से योग करते है उनके शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जेपी दलाल ने कहा कि हमारे देश में अब तीसरी लहर ( Corona Virus Third Wave ) नहीं आएगी। क्योंकि वैक्सीन का काम युद्ध स्तर पर हो रहा है। वो भी मुफ्त में। हमें योग को नियमित रूप से अपनाना चाहिए। कुछ लोग ऐसे भी होते है जो कभी-कभी योग करते है फिर कामना करते है कि योग का असर हो। लेकिन ऐसा नहीं होता है। पहला सुख निरोगी काया है हमारा शरीर स्वस्थ रहेगा तो हम परम सुख की प्राप्ति कर सकते है। हमारा शरीर स्वस्थ रहेगा तो हमें सभी सुखों की प्राप्ति होगी।

Latest News

aaखुले बालों में चीखती-चिल्लाती महिलाएं, अजीब व्यवहार करते पुरुष, यहां के भूत मेले में दूर-दूर से पहुंचते हैं लोग..
Bhoot Mela Ganga Ghat कानपुर | हमारे देश भारत में अंधविश्वास हमेशा से एक बड़ी समस्या रही है. एक बार फिर से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *