nayaindia झारखंड में चुनाव लड़ना गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं : जदयू - Naya India
खेल समाचार | Uncategorized| नया इंडिया|

झारखंड में चुनाव लड़ना गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं : जदयू

पटना। बिहार में भाजपा के साथ मिलकर सरकार चला रही जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने झारखंड में उसके चुनाव लड़ने के निर्णय को लेकर चल रही अटकलबाजियों एवं कयासों को खारिज करते हुए आज कहा कि जदयू का ऐसा करना गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं है।

जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने यहां झारखंड में जदयू के सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के निर्णय को किसी भी स्थिति में गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं मानते हुए कहा, “जब हमारा गठबंधन भाजपा के साथ केवल बिहार में है तो फिर झारखंड में चुनाव लड़ना गलत कैसे हो सकता है।

प्रसाद ने कहा कि जदयू झारखंड समेत देश के अनेक राज्यों में चुनाव पूर्व में भी लड़ता रहा है। अरुणाचल प्रदेश एक ताजातरीन उदाहरण है, जहां भाजपा और जदयू दोनो लड़े। उन्होंने कहा कि जदयू ने अरुणाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में सात सीटों पर जीत हासिल कर दूसरी बडी पार्टी बनने का गौरव हासिल किया।

इसे भी पढ़ें :- नीतीश ने भाजपा के ‘बागी’ सरयू के बहाने ‘तीर’ से कई निशाने साधे

जदयू प्रवक्ता ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की पहली पारी में नेशनल एजेंडा ऑन गवर्नेन्स की व्यवस्था रही है, जिसके जरिए राजग के घटक दल एक-दूसरे के विचारों की भिन्नता को लेकर कभी भी असहज नहीं होते रहे हैं। यह अस्वाभाविक भी नहीं है कि दो दल किसी एक विषय पर भिन्न-भिन्न राय रखें। राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पर जदयू के रुख को उसी परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिए। प्रसाद ने कहा कि असम में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी एवं आंदोलनकारियों के बीच हुए एतिहासिक करार एवं कालांतर में सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश एवं उनकी निगरानी में वहां एनआरसी सम्पन्न हुआ था। वहीं, बिहार को लेकर उच्चतम न्यायालय ने ऐसा कोई निर्देश नहीं दिया है।

जदयू प्रवक्ता ने कहा कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में राजग सरकार जन आकांक्षाओं के अनुरूप सर्वश्रेष्ठ सामंजस्य एवं समन्वय के साथ कार्य कर रहा है। आधारभूत संरचना, सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) विकास दर, कमजोर तबकों का सशक्तिकरण, बिजली, शराबबंदी, कृषि रोडमैप एवं युवाओं के लिए आकर्षक योजनाओं के जरिए जनता की कसौटी पर खरा उतरते हुए अपने डेढ़ दशक के शासन में लगभग 12 वर्ष जदयू राजीव का हिस्सा रहा है। इस दौरान कई मुद्दों पर वैचारिक असहमति का दोनों ही पक्ष सम्मान करते रहे हैं। प्रसाद ने कहा कि जनता विकास और अमनचैन चाहती है और श्री कुमार के नेतृत्व में प्रदेश की राजग सरकार इस लक्ष्य के लिए पूर्णतः संकल्पित है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

11 − seven =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
विदेशों में भी मिलेगा उत्तराखंड का आम, शहद व राजमा
विदेशों में भी मिलेगा उत्तराखंड का आम, शहद व राजमा