• [EDITED BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 10 July, 2019 08:14 PM | Total Read Count 29
  • Tweet
टीम इंडिया ने तोड़ा करोड़ों का सपना

मैनचेस्टर। शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों की नाकामी के कारण भारत को आईसीसी विश्वकप के सांसों को रोक देने वाले पहले सेमीफाइनल में बुधवार को न्यूजीलैंड के हाथों 18 रन की हार का सामना करना पड़ा और इसके साथ ही भारतीय टीम विश्वकप से बाहर हो गई। न्यूजीलैंड ने इस जीत के साथ लगातार दूसरी बार विश्वकप के फाइनल में जगह बना ली।

भारत की हार के साथ ही करोड़ों भारतीयों का सपना एक झटके में टूट गया। वर्षा बाधित इस सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने 50 ओवर में आठ विकेट पर 239 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया और इसका पीछा करते हुए भारतीय टीम खराब शुरुआत से उबर नहीं पायी। रवींद्र जडेजा ने बेशक 77 और महेंद्र सिंह धोनी ने 50 रन बनाए और सातवें विकेट के लिए 116 रन की साझेदारी की लेकिन इनके अंतिम ओवरों में आउट होते ही भारत की उम्मीदें टूट गईं।

भारत 49.3 ओवर में 221 रन ही बना सका। भारत लगातार दूसरे विश्वकप में सेमीफाइनल में बाहर हुआ। न्यूजीलैंड ने इस जीत के साथ लगातार दूसरे विश्वकप के फाइनल में जगह बना ली। न्यूजीलैंड ने 2015 के विश्वकप में सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को हराया था। न्यूजीलैंड का फाइनल में गत चैंपियन ऑस्ट्रेलिया और मेजबान इंग्लैंड के बीच दूसरे सेमीफाइनल से विजेता से मुकाबला होगा। भारत के शीर्ष क्रम को झकझोरने वाले और मैच में 37 रन पर तीन विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज मैट हेनरी को प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला।

टीम इंडिया लीग चरण में शीर्ष पर रही थी और इस दौरान उसका न्यूजीलैंड के साथ लीग मुकाबला बारिश से धुल गया था। लेकिन सेमीफाइनल में बारिश के कारण दो दिन तक चले मैच में न्यूजीलैंड ने भारत की चुनौती को काबू कर लिया। भारत की हार का सबसे बड़ा कारण उसके शीर्ष क्रम की नाकामी रही। टूर्नामेंट में पांच शतक बनाने वाले रोहित शर्मा एक, कप्तान विराट कोहली एक और लोकेश राहुल एक रन बनाकर आउट हुए।

रिषभ पंत ने 32 और हार्दिक पांड्या ने 32 रन बनाए और दोनों ही बल्लेबाज ऊंचे शॉट खेलने के चक्कर में अपने विकेट गंवा बैठे। जडेजा ने 59 गेंदों पर चार चौकों और चार छक्कों की मदद से 77 रन बनाकर भारत को कुछ उम्मीदें दी लेकिन 48वें ओवर में उनके आउट होते ही भारत का संघर्ष दम तोड़ गया। 72 गेंदों में एक चौके और एक छक्के के सहारे 50 रन बनाने वाले धोनी 49वें ओवर में रन आउट हुए और इसके साथ ही करोड़ों भारतीय प्रशंसकों को मुंह से एक आह निकली और भारत विश्वकप से बाहर हो गया। भारतीय टीम अंतिम ओवर में 221 रन पर सिमट गई।

टूर्नामेंट में लीग मैचों तक भारत के शीर्ष क्रम ने शानदार प्रदर्शन किया था लेकिन जब निर्णायक मौके पर प्रदर्शन करने की बारी आयी तो भारत के स्टार बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए। इस हार ने दो साल पहले की आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी के फाइनल की याद दिला दी जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ भारत के शीर्ष बल्लेबाजों ने समर्पण कर दिया था। उस समय रोहित शून्य और विराट पांच रन बनाकर आउट हुए थे।
भारत ने वर्षा बाधित इस मुकाबले में न्यूजीलैंड को पांच विकेट पर 211 रन से आगे खेलते हुए 239 रन पर रोक दिया था। लेकिन लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने खौफनाक शुरुआत की और मात्र पांच रन पर तीन विकेट गंवा दिए।

हेनरी ने शानदार फॉर्म में चल रहे भारतीय ओपनर रोहित को विकेटकीपर टॉम लाथम के हाथों कैच करा दिया। भारत इस झटके से अभी संभल भी नहीं पाया था कि बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने भारतीय कप्तान विराट को पगबाधा कर दिया। विराट ने रेफरल लिया लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। अगले ही ओवर में हेनरी ने लोकेश राहुल को लाथम के हाथों कैच कराकर भारत की कमर तोड़ दी।
रही-सही कसर दिनेश कार्तिक के आउट होने ने पूरी कर दी।

हेनरी ने कार्तिक का विकेट भी लिया।लगातार संघर्ष कर रहे कार्तिक ने 21वीं बॉल पर जाकर अपना पहला रन बनाया। भारत ने 10 ओवर के पावरप्ले में मात्र 24 रन बनाए जो इस टूर्नामेंट में पावरप्ले का सबसे कम स्कोर है। कार्तिक 25 गेंदों में छह रन बना सके और उनका कैच जेम्स नीशम ने लपका।
इससे पहले न्यूजीलैंड ने रिजर्व डे पर कल के 46.1 ओवर में पांच विकेट पर 211 रन से आगे खेलना शुरू किया और 50 ओवर में अपना स्कोर 239 पहुंचाया। न्यूजीलैंड ने आज शेष 23 गेंदों पर 28 रन जोड़े जो अंत में निर्णायक साबित हुए।

मैच के दिन कीवी टीम के इस स्कोर के बाद लगातार बारिश के बाद अंपायरों ने खेल होने की कोई उम्मीद ना देखकर खेल को निलंबित करने का फैसला किया जिससे मैच रिजर्व डे के दिन खिंच गया। कल के नाबाद बल्लेबाज़ों रॉस टेलर ने 67 रन और टॉम लाथम ने तीन रन से पारियों को आगे बढ़ाया।

टेलर अपने कल के स्कोर में ज्यादा इज़ाफा नहीं कर सके और केवल सात रन ही जोड़ सके थे कि लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा ने उन्हें रनआउट कर अपना शिकार बना लिया। टेलर ने 90 गेंदों की पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाकर 74 रन की सबसे बड़ी पारी खेली। इसी के साथ न्यूजीलैंड ने अपना छठा विकेट 225 के स्कोर पर गंवा दिया। भारतीय गेंदबाज़ों के आक्रामक प्रदर्शन के सामने टेलर ने संयम से रन बटोरने का प्रयास किया और चार बल्लेबाज़ों के साथ छोटी छोटी साझेदारियां कीं और टीम के सबसे बड़े स्कोरर भी रहे।

उन्होंने कप्तान विलियम्सन के साथ तीसरे विकेट के लिये 65 रन की दूसरी उपयोगी अर्धशतकीय साझेदारी की जिसने टीम को कुछ बेहतर स्थिति में पहुंचाया। न्यूजीलैंड ने अपने आखिरी तीन विकेट 14 रन के भीतर ही गंवा दिये। टेलर के साथ कल के नाबाद खिलाड़ी टॅाम लाथम भी अपने स्कोर में सात रन का इजाफा कर 10 रन पर ही आउट हो गये। उन्हें तेज़ गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार ने जडेजा के हाथों कैच कराया। वहीं अगला विकेट मैट हेनरी के रूप में गिरा जिन्होंने एक रन बनाये।

हेनरी को भुवी ने विराट कोहली के हाथों कैच कराकर न्यूजीलैंड का आठवां विकेट निकाला। मिशेल सेंटनर छह गेंदों में एक चौका लगाकर नौ रन और ट्रेंट बोल्ट तीन रन पर नाबाद लौटे। भारत की ओर से भुवनेश्वर 43 रन पर तीन विकेट लेकर सबसे सफल रहे जबकि जसप्रीत बुमराह ने 39 रन, हार्दिक पांड्या ने 55 रन देकर एक एक विकेट लिये। स्पिनरों में जडेजा को 10 ओवर में सबसे किफायती गेंदबाजी करते हुये 34 रन पर एक विकेट मिला जबकि युजवेंद्र चहल महंगे साबित हुये और 63 रन पर उन्हें एक विकेट मिला।

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories