• [EDITED BY : Edit Team] PUBLISH DATE: ; 28 June, 2019 06:40 AM | Total Read Count 132
  • Tweet
फिर एनआरसी की तलवार

असम में विवादों में रही नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजंस (एनआरसी) की कवायद के चलते बीते साल 40 लाख लोगों की नागरिकता और भविष्य अधर में लटक गए थे। अब जारी एक अतिरिक्त सूची के मुताबिक एक लाख लोग बेघर हो गए हैं। इन लोगों के नाम पिछली एनआरसी के मसविदे में शामिल थे, लेकिन तमाम आपत्तियों के बाद अब उनको सूची से बाहर निकाल दिया गया है। एनआरसी की अंतिम सूची 31 जुलाई को प्रकाशित होनी है। उसके पहले उनके दावों का निपटान किया जाएगा। इस बीच बिहार मूल की एक महिला को विदेशी घोषित कर डिटेंशन शिविर में भेजे जाने से बाहरी राज्यों से आकर कई पीढ़ियों से यहां रहने वाले लोगों में आतंक फैल गया है।

अतिरिक्त सूची में 1,02,462 लोगों के नाम हैं। इन लोगों के नाम बीते साल प्रकाशित एनआरसी के मसविदे में थे। लेकिन आखिर ऐसा क्यों हुआ कि अब उनको सूची से बाहर रखा गया है? सरकारी अधिकारियों के मुताबिक इनमें ऐसे लोग शामिल हैं, जिनके मामले विदेशी न्यायाधिकरण के समक्ष लंबित हैं। दूसरे वर्ग में दावों और आपत्तियों के निपटान के लिए गवाह के तौर पर पेश ऐसे लोग हैं, जो अयोग्य पाए गए। नागरिकता पंजीकरण के स्थानीय रजिस्ट्रारों की ओर से एनआरसी के मसविदे के प्रकाशन के बाद जांच के दौरान अयोग्य पाए जाने वाले लोगों के नाम भी इस सूची में शामिल किए गए हैं। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्दोश पर राज्य में अवैध तरीके से रहने वाले विदेशी नागरिकों की शिनाख्त कर उनको बाहर निकालने के लिए एनआरसी की कवायद चल रही है। लेकिन इस पर शुरू से विवाद रहा है। सर्वोच्च अदालत ने विदेशी घोषित लोगों और उनके वंशजों को एनआरसी से बाहर रखने को कहा है। इसी तरह संदिग्ध वोटरों और उन लोगों को इस सूची से बाहर रखने का निर्देश दिया गया है, जिनके मामले विदेशी न्यायाधिकरणों के समक्ष लंबित हैं। बीते साल एनआरसी के मसिवदे के प्रकाशन के बाद 40 लाख लोगों को इससे बाहर रखा गया था। उनमें से लगभग 36 लाख ने दोबारा दस्तावेजों के साथ अपना दावा पेश किया है। लेकिन आलोचकों का कहना है कि एनआरसी की प्रक्रिया ठीक नहीं है। इसमें जाने-अनजाने वैध नागरिक भी विदेशी करार दिए जा रहे हैं। 40 लाख लोगों के भविष्य पर पहले से ही तलवार लटक रही थी। अब और एक लाख लोग इसमें जुड़ गए हैं। अगर इन आलोचनाओं का उचित जवाब नहीं दिया गया तो ये प्रक्रिया एक नई समस्या की जड़ बन सकती है।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories