• [WRITTEN BY : Edit Team] PUBLISH DATE: ; 03 September, 2019 06:35 AM | Total Read Count 215
  • Tweet
विवेकहीनता की ही मिसाल

देश के कई इलाकों से पिछले एक महीने के दौरान ऐसी दर्जनों घटनाओं की खबरें आई हैं, जिनमें भीड़ ने बच्चा चोरी का आरोप लगाते हुए अनजान लोगों की पिटाई की। ऐसी पिटाई में कई लोगों की जान भी जा चुकी है। दरअसल, इस तरह के सौ ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। दर्जनों लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। उत्तर प्रदेश के संभल जिले में तो सिर्फ चार दिन के अंदर दो लोगों की इसी संदेह में पिटाई के दौरान मौत हो गई। उधर इसी राज्य के अमरोहा जिले में बच्चा चोरी के शक में के भीड़ ने एक मंदबुद्धि व्यक्ति को पीट-पीटकर मार डाला। मुरादाबाद मंडल के रामपुर, अमरोहा और संभल जिलों में एक महीने के भीतर बच्चा चोरी के शक में तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या की जा चुकी है। बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ से भी ऐसी घटनाओं की खबर आई है। इन सभी मामलों में ज्यादातर अनजान लोग ही भीड़ की हिंसा का शिकार हुए। 

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर में तो बच्चा चोरी करने वाले गिरोह की आशंका में ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को ही बंधक बना लिया था। भीड़ ने पुलिस को भी दौड़ाते हुए पथराव किया, जिसमें दारोगा, सिपाही समेत तीन लोग घायल हो गए। बाद में पहुंची पुलिस टीम ने सभी स्वास्थ्यकर्मियों को ग्रामीणों के बंधन से मुक्त कराया। तो यह मिसाल है कि अपने समाज में किस तरह की विवेकहीनता की स्थिति बन रही है। साथ ही कानून-व्यवस्था का सिस्टम जैसे ढह गया है। लोगों में कानून हाथ में लेने की घटनाएं इतने बड़े पैमाने पर होने लगें, तो यही समझा जा सकता है कि समाज अराजकता की तरफ बढ़ रहा है। दरअसल, अफवाहों की वजह से भीड़ की हिंसा इस कदर भयावह होती जा रही है कि उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने चेतावनी दी कि अफवाह फैलानों वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून भी लगाया जा सकता है। हो यह रहा है कि मोहल्ले में या गांव में किसी अनजान व्यक्ति या महिला के पास बच्चा दिखा तो लोग उसे चोर ही समझने लग रहे हैं। पुलिस इन अफवाहों और इनकी वजह से होने वाली घटनाओं को रोकने के लिए कड़ी मशक्कत कर रही है। लेकिन जब तक अफवाहों से लोग खुद दूर नहीं रहेंगे, सोशल मीडिया के दौर में तब तक इसे रोक पाना मुमकिन नहीं है।

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories