• [EDITED BY : Edit Team] PUBLISH DATE: ; 10 July, 2019 11:33 PM | Total Read Count 168
  • Tweet
आधार पर वाजिब सवाल

राज्यसभा ने इस हफ्ते ‘आधार और अन्य कानून (संशोधन) विधेयक, 2019’ को पारित कर दिया गया। इस विधेयक में बैंक में खाता खोलने, मोबाइल फोन का सिम लेने के लिए आधार को स्वैच्छिक बनाने का प्रावधान किया गया है। निजी संस्थाओं द्वारा आधार डेटा का दुरुपयोग करने पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना और जेल का प्रावधान रखा गया है। ये विधेयक लोकसभा से पहले ही पारित हो चुका है। मगर कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने आधार कार्ड से जुड़ी जानकारियों की सुरक्षा को लेकर गहरी चिंता जताई है। उनकी मांग थी कि सरकार आधार के डेटा की सुरक्षा के लिए संसद में एक विधेयक लाए। वैसे सुप्रीम कोर्ट ने भी इस संबंध में कुछ सुझाव दिए थे। कई सदस्यों का कहना था कि इस विधेयक को प्रवर समिति के पास भेजा जाना चाहिए, ताकि इस पर विस्तृत चर्चा और समीक्षा हो सके। मगर सरकार इसके लिए सहमत नहीं हुई। विपक्ष के इस आरोप में दम है कि अब आधार का उपयोग गैर-सरकारी संस्थाओं द्वारा नहीं किया जा सकता है। इसे गैर-सरकारी एजेंसियों के लिए नहीं बनाया गया था। आधार को जन सेवा, लाभ और सब्सिडी के लिए लाया गया था। बेशक आधार में अधिकतर संवेदनशील आंकड़े होते हैं। जबकि सरकार अब तक डेटा सुरक्षा कानून नहीं ला पाई है। आरोप है कि सरकार डेटा सुरक्षा कानून से बच रही है। जबकि आंकड़े साझा करने वाले व्यक्ति को पता होना चाहिए कि उसके आंकड़ों का उपयोग कहां किया जा रहा है।

इसलिए पहले सरकार को डाटा सुरक्षा कानून लाना चाहिए था। जब सरकार डेटा सुरक्षा कानून लाएगी तो फिर आधार कानून में संशोधन किया जाएगा। कांग्रेस का आरोप है कि इस विधेयक के कई प्रावधान सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन है। इसके साथ विधेयक में ऐसे कई प्रावधान हैं, जिनमें सरकार को कदम उठाने की जिम्मेदारी दी गई है, जबकि वह कार्य संसद को करना है। सरकार की तरफ से कहा गया कि यह निजता के सिद्धांत का उल्लंघन नहीं करता। यह उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट भी कहा है। सरकार के मुताबिक इसमें यह सुनिश्चित किया गया है कि किसी के पास आधार नहीं होने की स्थिति में उसे सेवा से वंचित नहीं किया जा सकेगा। फिलहाल भारत की आबादी 130 करोड़ है और उनमें से 123.8 करोड़ लोगों के पास आधार है। 69.38 करोड़ मोबाइल फोन तथा 65.91 करोड़ बैंक खाते आधार से जुड़ चुके हैं।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories