• [WRITTEN BY : Edit Team] PUBLISH DATE: ; 04 September, 2019 07:05 AM | Total Read Count 173
  • Tweet
संदेश वाहक पर निशाना

एक कहावत है कि अगर संदेश खराब हो तो तानाशाह उसकी सजा संदेशवाहक को ही देने लगते हैं। अपने देश में कुछ ऐसा ही होता दिख रहा है। गौरतलब है कि पिछले दिनों मिर्ज़ापुर के एक प्राइमरी स्कूल का वीडियो बहुत वायरल हुआ था। उसमें बच्चों को मिड डे मील में नमक-रोटी परोसी जा रही थी। अब ये खबर देने वाले पत्रकार को ही घेरे में ले लिया गया। इस खबर का खुलासा करने वाले एक स्थानीय अखबार के पत्रकार पवन जायसवाल पर मुकदमा दर्ज कर दिया गया है। इलाके के खंड शिक्षा अधिकारी की तहरीर पर पत्रकार और ग्राम प्रधान के प्रतिनिधि पर धारा 120-बी, 186,193 और 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इन पर सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने, मिलकर साजिश रचने और फर्जीवाड़ा करने का आरोप लगाया गया है। ये खबर छपने के बाद जिलाधिकारी ने दोषियों पर कार्रवाई की बात कही थी। मगर अब पत्रकार पर ही एफआईआर दर्ज करा दी गई। साफ तौर पर ये पत्रकारों की स्वतंत्रता का हनन का सवाल है।

मुद्दा यह है कि क्या अब कोई पत्रकार खबर भी नहीं लिख सकता? खबर छपने के बाद ज़िले के आला अधिकारियों ने कई बार शिउर गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय पर पहुंच कर बच्चों, ग्रामीणों सहित दुकानदारों और रसोइया का कई बार बयान लिया। अब मिली जानकारी के मुताबिक डीएम अनुराग पटेल के निर्देश पर खंड शिक्षा अधिकारी प्रेम शंकर राम ने थाने में तहरीर देकर आरोप दर्ज कराया। इसमें कहा गया कि रोटी-नमक प्रकरण में जान बूझकर, प्रायोजित तरीके से छलपूर्वक वीडियो बनाया गया। फिर वीडियो को वायरल किया गया। इस तरह सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न की गई। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि राजकुमार पाल पर षड्यंत्र रचकर एक पत्रकार की मदद से वीडियो बनवाने और उसे वायरल कराने का इल्जाम लगाया गया है। इस घटना में सामने यह आया था कि प्राइमरी स्कूल के बच्चों को नमक के साथ रोटी खिलाई जा रही है। उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में दी जाने वाली मिड-डे मील में हर दिन का अलग मेन्यू होता है। उसमें रोटी, दाल, चावल आदि रहता है। वहीं हफ्ते में एक दिन खीर और एक दिन फल भी रहता है। लेकिन मिर्ज़ापुर के सरकारी प्राइमरी स्कूल के वीडियो में साफ दिख रहा है कि बच्चे नमक-रोटी खाने को मजबूर हैं। प्रशासन को जांच यह करना चाहिए था कि आखिर ऐसा कैसे हुआ। लेकिन उसने खबर देने वाले पर ही गुस्सा निकाल दिया। अब इस पर क्या कहा जाए? 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories