• [WRITTEN BY : Editorial Team] PUBLISH DATE: ; 14 August, 2019 06:10 AM | Total Read Count 140
  • Tweet
निजी क्षेत्र का अनाकर्षण

इस साल के आर्थिक सर्वेक्षण में सरकार ने कहा था कि आर्थिक विकास का इंजन प्राइवेट सेक्टर को बनना होगा। दुनिया भर में जिन देशों में पूंजीवादी विकास हुआ वहां इकॉनोमिक ग्रोथ को मुख्य रूप से प्राइवेट सेक्टर ने ही आगे बढ़ाया है। लेकिन फिलहाल भारत में ये सेक्टर संकट ग्रस्त है। इस खबर जरूर ध्यान दिया जाना चाहिए कि निजी क्षेत्र में नौकरियों में बढ़ती अनिश्चितता और असुरक्षा के चलते ओडिशा के हजारों डिग्री धारक सरकारी नौकरी का रुख करने को मजबूर हो गए हैं। बीते कुछ वर्षों में बैंकिंग में निजी और सार्वजानिक क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों ने बड़ी संख्या में सरकारी नौकरी को चुना है। हाल में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में रिकॉर्ड गिरावट के कारण जहां कई कर्मचारी पहले ही अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे हैं, वहीं लाखों कर्मचारियों की नौकरी पर तलवार लटक रही है। ओडिशा के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राज्य सचिवालय में सहायक अनुभाग अधिकारी (एएसओ) के पद पर भर्ती होने वाले 500 उम्मीदवारों में से 70 प्रतिशत से अधिक के पास बीटेक और एमटेक की डिग्री है। जबकि कम से कम पांच ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान से पढ़ाई की है। सरकारी अधिकारियों ने बताया है कि बीटेक इंजिनियर, बैंक प्रोबेशनर अधिकारियों और पांच आईआईटी से पढ़े लोगों की नियुक्ति ओडिशा सचिवालय सेवा में हुई है। 

अधिकारियों ने यह भी बताया कि कई लोग जॉब प्रोफाइल बदलने की वजह से भी इस कैडर की तरफ आकर्षित हुए हैं। चयनित उम्मीदवरों ने मीडिया को  बताया है कि नौकरी की सुरक्षा, काम के कम घंटे और काम की निश्चित जगह के चलते उन्होंने निजी नौकरी की तुलना सरकारी नौकरी को पसंद किया। अधिकारियों का कहना है कि एएसओ के पद पर नियुक्त होने वाला उम्मीदवार अगर मेहनत करे और विभाग की परिक्षा पास करे तो वो अतिरिक्त सचिव के पद तक पहुंच सकता है। कहने का मतलब यह कि निजी क्षेत्र में ऐसे अवसर घटते गए हैं, जबकि पहले माना जाता था कि करियर में तेजी से आगे बढ़ना निजी क्षेत्र में अधिक होता है। फिर एक वजह यह है कि पब्लिक सेक्टर की नौकरियों को लेकर अनिश्चय भी बढ़ा है। चयनित उम्मीदवारों ने कहा कि उन्होंने यहां आने के लिए बैंक जैसे संस्थानों की नौकरी छोड़ी, क्योंकि बैंकिंग क्षेत्र में भले अच्छा पैकेज मिलता हो, लेकिन वहां शांति नहीं है। अब ये हाल क्या बताता है, इस पर गंभीर मंथन की जरूरत है।

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories