• [EDITED BY : Editorial Team] PUBLISH DATE: ; 30 July, 2019 05:19 AM | Total Read Count 234
  • Tweet
शहरी बदहाली की मिसाल

मुंबई का हाल भारत के तमाम शहरों की कहानी है। हाल में भारत की आर्थिक राजधानी कहा जाने वाला ये शहर कभी पानी भरने के चलते, तो कभी किसी जानलेवा हादसे खबरों में बना रहा। सप्ताहांत में बारिश से फिर शहर परेशान हुआ। उसके पहले पिछले 22 जुलाई को मुंबई के पॉश इलाकों में शुमार बांद्रा की बहु-मंजिला इमारत में आग लग गई। इमारत में राज्य सरकार की टेलीकॉम कंपनी एमटीएनएल के अधिकारी रहते थे। इस घटना के एक दिन पहले ही मुंबई के ताज होटल के पास खड़ी एक इमारत में आग लगने के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। जब भारी बारिश के चलते मुंबई में जगह-जगह पानी भरा हुआ था, उस वक्त भी डोंगरी के इलाके में दीवार गिरने के चलते 13 लोगों की जान चली गई। ये सारे हादसे मुंबई के पुराने पड़ते बुनियादी ढांचे पर सवाल खड़े कर रहे हैं। मुंबई की आबादी करीब दो करोड़ है। ये आबादी इस ढांचे के बीच जिंदगी गुजार रही है। पिछले कुछ दशकों से मुंबई का आकार बहुत तेजी से बड़ा है। 

हैरतअंगेज है कि आर्थिक प्रगति की राह पर दौड़ती मुंबई हर साल बारिश में अपनी रफ्तार थामने को मजबूर हो जाती है। इसके साथ ही निर्माण कार्य और कचरे के चलते पानी जमने की समस्या यहां अब आम बात है। जानकार मानते हैं कि खराब योजना और सुरक्षा को लेकर अपनाया गया ढुलमुल रवैया भी शहर की इमारतों पर जोखिम बढ़ा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि जगह की कमी से जूझती मुंबई में लंबवत विकास (वर्टिकल ग्रोथ) ही एकमात्र रास्ता है। यह तरीका बुनियादी ढांचों को मजूबत करेगा। यानी इस पर बिल्कुल सही तरीके से योजना बनाई जानी चाहिए। 

वर्टिकल डेवलपमेंट से मतलब पहले कम धीरे और परंपरागत तरीके से शुरू कर ऊंचाई पर जाना होता है। लेकिन मुंबई की नगर निगम इकाइयां वर्टिकल ग्रोथ को पानी, सीवेज और ट्रैफिक मैनेजमेंट के लिहाज से सबसे बड़ी समस्या मानती हैं। जाहिर है, मुंबई के सामने काफी चुनौतियां हैं। मसलन पिछले पांच सालों में आग और बिल्डिंग गिरने की घटनाएं काफी तेजी से बढ़ी हैं। विशेषज्ञ मानते हैं कि अव्यवस्थित और बेतरतीब तरीके से बनाई गई योजनाओं ने मुंबई को प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाओं के प्रति संवेदनशील बना दिया है। दुखद यह है कि इस स्थिति से निपटने का कोई प्रयास होता नहीं दिखता।  

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories