• [EDITED BY : Hari Shankar Vyas] PUBLISH DATE: ; 06 July, 2019 07:28 AM | Total Read Count 309
  • Tweet
जैसे राहुल वैसे पवार और...

सब जानकारों का कहना है कि शरद पवार ने कांग्रेस में विलय का इरादा बनाया हुआ है। और ऐसा होते हुए भी वे फैसला नहीं ले पाए रहे हैं। अजित पवार, प्रफुल्ल पटेल आदि की अनिच्छा के आगे शरद पवार लाचार हैं। वे इन्हें मना-समझा नहीं पा रहे हैं। मतलब जैसे कांग्रेस में राहुल गांधी लाचार हैं वैसे एनसीपी में शरद पवार हैं। सोचें, शरद पवार महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की आगे की हकीकत को समझते हुए भी कायदे से अपने को लीडर बतलाने वाला फैसला नहीं ले पा रहे हैं तो अनुमान लगा सकते हैं कि जेल में बंद लालू प्रसाद यादव, घर में बंद अखिलेश यादव, सीताराम येचुरी, ममता बनर्जी आदि अपनी -अपनी पार्टियों, अपनी राजनीति को कैसे आईसीयू में बंद किए लाचार होंगे।  भारत की राजनीति और भारत के लोकतंत्र के मौजूदा मुकाम का सबसे बड़ा, नबंर एक खतरनाक पहलू यह है कि विपक्ष में होना ही नेताओं के लिए मरा हुआ होना हो गया है। विपक्ष का मतलब आईसीयू है, अधमरा-आईसीयू वाला अस्तित्व है, इस बात को अखिलेश यादव, मायावती, तेजस्वी यादव, शरद पवार, चंद्रबाबू नायडू ने अपने-अपने परकोटे में बंद हो कर जैसे जता रहे है वह पाकिस्तानी लोकतंत्र से भी बुरी दशा है। 

बड़ी-बुनियादी वजह है कि नरेंद्र मोदी-अमित शाह के हिंदू वोट बैंक की गणित-केमिस्ट्री के आगे विपक्ष निरूतर और बिना समझ के है। मतलब विरोध करे तो कैसे करें, अपना स्पेस बनाए तो कैसे बनाए? 

एक तरफ नई गणित-केमिस्ट्री के आगे लाचार हैं तो मोदी-शाह की लीडरशीप जैसी तलवारबाजी करने का माद्दा भी विपक्षी नेताओं में नहीं है। बावजूद इसके ये आपस में बात करके, मिलजुल का साझा रणनीति बनाने का काम तो कर सकते हैं। मगर क्या गजब बात है कि सत्ता के लिए चुनाव से पहले चंद्रबाबू नायडू, अरविंद केजरीवाल आदि विरोधी नेताओं का जमावड़ा, पार्टियों का एलांयस या मोर्चा बनाने वाली भागदौड़ हुई थी लेकिन विपक्ष के लिए साझा, एकजुट रणनीति का आइडिया इनके आईसीयू की आबोहवा में ही नहीं है। 

अपने को सर्वाधिक त्रासद स्थिति शरद पवार से समझ आती है। इतने अनुभवी शरद पवार का भी अपनी पार्टी में एक राय नहीं बनवा पाना व महाराष्ट्र के आसन्न चुनाव में भी टाइमपास वाली एप्रोच का अर्थ है कि विपक्ष का आईसीयू मोड स्थायी स्वरूप पाता जा रहा है। 

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories