• [WRITTEN BY : Hari Shankar Vyas] PUBLISH DATE: ; 31 August, 2019 06:34 AM | Total Read Count 407
  • Tweet
सेना है जंग के लिए तैयार

भारत ने घोषित तौर पर ऐसा कुछ नहीं कहा है, जिससे लगे कि वह पाकिस्तान के साथ युद्ध करने की तैयारी में है। कम से कम जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के फैसले के बाद। लेकिन अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाने से बहुत पहले भारत ने अपनी तैयारी बता दी थी। इस साल के शुरू में पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद भारत की वायु सेना ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक किया। उस समय ऐसा लग रहा था कि पाकिस्तान जंग छेड़ेगा। 

तब सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बहुत साफ शब्दों में कहा था कि पाकिस्तान के साथ पारंपरिक युद्ध लड़ने के लिए भारत की पूरी तैयारी है।  सेना प्रमुख ने उस समय सेना की तैयारियों की जानकारी राजनीतिक नेतृत्व के दे दी थी। उन्होंने कहा था कि भारतीय सेना पाकिस्तान की सरजमीं पर जाकर लड़ने की स्थिति में है। यानी भारत सिर्फ अपनी सीमा पर रह कर लड़ने को तैयार नहीं, बल्कि पाकिस्तान की सीमा में घुस कर उससे लड़ने की स्थिति में है। उस समय सेना प्रमुख ने हवाई हमले और युद्ध के दूसरे तमाम उपायों के बारे में चर्चा की थी। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद यानी 26 फरवरी 2019 के बाद एक दिन सेना के रिटायर अधिकारियों के साथ जनरल रावत ने बैठक की थी। तब सूत्रों के हवाले से खबर आई थी कि जनरल रावत ने अधिकारियों से कहा था कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की ओर से हमले का अंदेशा था और तब सेना ने उसकी सीमा में घुस कर लड़ाई का पूरी तैयारी कर ली थी। 

सवाल है कि क्या सेना सचमुच पूरी तरह से तैयार है? क्या सेना के पास पर्याप्त मात्रा में गोला-बारूद, आधुनिक हथियार, वायु सेना के विमान आदि सब तैयार हैं? ध्यान रहे बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद जब भारत के विंग कमांडर अभिनंदन ने अपने मिग विमान से पाकिस्तान का एफ-16 लड़ाकू विमान मार गिराया था तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद कहा था कि अगर आज भारत के पास राफेल विमान होते तो स्थिति दूसरी होती। भारत का पहला राफेल विमान सितंबर में आने वाला है। अगर पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशिद अहमद की समय सीमा को मानें तो लड़ाई अक्टूबर-नवंबर में होगी। तब तक भारत के पास राफेल लड़ाकू विमान भी होगा। इससे निश्चित रूप से भारतीय वायु सेना की ताकत बढ़ेगी। 

यूपीए सरकार के आखिरी दिनों में जब उस समय के सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह को लेकर कई तरह के विवाद हो रहे थे तब यह भी खबर आई थी कि भारतीय सेना के पास एक हफ्ते तक लड़ने के लिए भी गोला बारूद नहीं है। यह भी खबर आई थी कि सेना के पास प्रशिक्षण के लिए भी पर्याप्त गोला बारूद नहीं है। पर अब ऐसी स्थिति नहीं है। बताया जा रहा है कि सितंबर 2016 में उरी में हुए पहले सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना ने भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद खरीदे हैं। सितंबर 2016 में ही 11 हजार करोड़ रुपए का गोला बारूद खरीदने की मंजूरी दी गई थी। बताया जा रहा है कि इसमें से लगभग सौ फीसदी आपूर्ति हो चुकी है। 

इसके बाद सेना ने सात हजार करोड़ रुपए के और जरूरी हथियार खरीदने का सौदा किया। करीब 33 करार किए गए। इसके बाद नौ हजार करोड़ रुपए का एक और सौदा किया गया। बताया जा रहा है कि पिछले दो साल में भारतीय सेना ने पुराने हथियारों की जगह नए हथियार खरीदने और गोला बारूद की जरूरत पूरी करने पर बहुत ध्यान दिया। इसके लिए दर्जनों करार हुए और हथियार व गोला बारूद खरीदा गया। संभवतः नरेंद्र मोदी सरकार की कश्मीर को लेकर आगे की योजना बनी हुई थी इसलिए सेना को हथियार और गोला-बारूद खरीद की पूरी छूट दी गई। इस साल मार्च में ही सेना के तीनों अंगों के उप प्रमुखों को कई अधिकार दिए गए। 

सेना के उप प्रमुखों को ऑपरेशनल तैयारियों के लिए जरूरी खरीद की छूट दी गई। बताया जा रहा है कि पिछले दो साल में सरकार ने सेना की खरीद से जुड़े कई नियमों में बदलाव किया है ताकि आसानी से खरीद हो सके। मिसाल के तौर पर पहले तीनों सेनाएं एक की वेंडर से अपने हथियार और गोला-बारूद या दूसरे उपकरणों की खरीद नहीं कर सकती थीं। पर पिछले दिनों सरकार ने इस नियम में बदलाव किया। ताकि खरीद में होने वाली देरी को कम किया जा सका। कंपनियों को काली सूची में डालते जाने के पुराने नियम में भी सरकार ने बदलाव किए। 

इस तरह एक तरफ तो ऐसा लग रहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के प्रति सद्भाव दिखा रहे हैं और बातचीत के जरिए समस्या सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं। तभी वे उस समय के पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के घर चले गए थे। पर दूसरी ओर सेनाओं को अपनी तैयारी की खुली छूट दी गई थी और धन मुहैया कराया गया था। तभी सेना पूरी तरह से तैयार है और जम्मू कश्मीर पर किए गए फैसले के बाद नियंत्रण रेखा पर पूरी तैयारी में है। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories