• [EDITED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 15 July, 2019 08:23 PM | Total Read Count 292
  • Tweet
20 रु. की चोरी का मामला चला 41 साल

ग्वालियर। देशभर की अदालतों में करीब साढ़े तीन करोड़ केस लंबित हैं और मुदकमों की रफ्तार तेजी से बढ़ते ही जा रही है। एक कहावत है कि दुश्मनों को भी अस्पताल और कचहरी का मुंह न देखना पड़े। इसके पीछे कारण यह है कि दोनों जगह के चक्कर में आदमी पड़ा तो वह पूरा तबाह हो जाता है और जीतनेवाला भी इतने विलंब से न्याय पाता है कि वह न्याय भी अन्याय के बराबर ही होता है। जमीन के छोटे—मोटे मामले भी 40—50 साल तक चलते रहते है। ऐसे ही एक मामला मध्यप्रदेश का है जहां न्यायालय में 20 रुपये की चोरी का एक मामला 41 साल चला और अब लोक अदालत की पहल पर यह मामला निपट गया है।

न्यायालयीन अधिकारी के अनुसार, "यह मामला शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में पहुंचा, जहां प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट अनिल कुमार नामदेव की सलाह पर मामले को खत्म कर दिया गया। न्यायालय ने बाबूलाल से कहा मामला 41 साल पुराना है। आरोपी भी चार महीने जेल में रह चुका है। इस केस को चलाने का मतलब नहीं है।" 

सुनवाई के दौरान फरियादी बाबूलाल (64) ने कहा, "साहब, मैं आरोपी को नहीं जानता। इतने साल बीत गए, अब मामला खत्म कर दीजिए। इसके बाद फरियादी की सहमति से मामला खत्म कर दिया गया।" मध्य प्रदेश के ग्वालियर में 20 रुपये की चोरी का एक मामला 41 साल चला और अब लोक अदालत की पहल पर यह मामला निपट गया है। आरोपी को चार माह तक जेल में रहना पड़ा था। मामला वर्ष 1978 का है जब माधोगंज क्षेत्र में इस्माइल खान ने बाबूलाल की जेब से बस की टिकट की लाइन में लगे होने के दौरान 20 रुपये निकाल लिए थे। इस मामले पर बाबूलाल ने पुलिस थाने में रिपोर्ट लिखवाई थी। जांच के बाद चालान न्यायालय में पेश किया गया। यह मामला न्यायालय में लंबित रहा। न्यायिक मजिस्ट्रेट के यहां सुनवाई चली, और इस्माइल ने न्यायालय आना बंद कर दिया। जब वह न्यायालय नहीं आया तो वर्ष 2004 में कोर्ट ने इस्माइल खान की गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया। पुलिस ने 15 साल बाद इस्माइल खान को ढूंढ निकाला और उसे जेल भेज दिया और उसे चार माह जेल में रहना पड़ा। 

माधोगंज के थाना प्रभारी सुरेंद्र िंसंह गौर का कहना है कि लोक अदालत में मामला निपटने की बात उनके सामने आई है। यह मामला बहुत पुराना है, इसलिए उनके पास इसकी विस्तृत जानकारी नहीं है।  वहीं, उच्च न्यायालय ग्वालियर खंडपीठ के सरकारी वकील ऋषिकेष मिश्रा ने कहा, "लोक अदालत के जरिए आपसी सहमति से प्रकरणों का निपटारा होता है। जब भी प्रकरण आपसी सहमति से निपटते हैं तो दोनों पक्षों में न तो मनमुटाव होता है और न ही विवाद आगे बढ़ता है। इसका उदाहरण इस्माइल और बाबूलाल का मामला है। यह मामला न्यायालय में 41 साल चला और लोक अदालत में एक बार में निराकृत हो गया।"

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories