• [POSTED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 11 August, 2019 08:56 PM | Total Read Count 118
  • Tweet
पचलखा ‘सलमान’ का नहीं मिल रहा है खरीददार

लखनऊ। फर्ज-ए-कुर्बानी का पर्व बकरीद की पूर्व संध्या पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बकरों की बिक्री पूरे शवाब पर रही हालांकि महंगाई के चलते खरीददारों की भीड़ में मामूली कमी दर्ज की गयी।पुराने लखनऊ के बकरामंडी में बकरों की बिक्री के लिये काराेबारियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। इस दौरान सलमान नामक बकरा खरीददारों के आकर्षण का केन्द्र रहा। पांच लाख रूपये के कीमत वाले इस बकरे की खासियत है कि इसके गले और पेट पर कुदरती तौर पर ‘अल्लाह’ का नाम लिखा है। 

बकरे के मालिक अब्दुल ने बताया “ मेरे लिये यह छोटे भाई की तरह है। बचपन से लेकर अब तक सलमान को अपने साथ रखता हूं। यहां तक कि उसे आरामदेह बिस्तर और तकिया बगैरह दिया जाता है। कुर्बानी के लिये इस बकरे को मंडी पर भरे मन से लाया हूं। इसकी कीमत पांच लाख रूपये रखी गयी है। अब तक इसकी बोली दो लाख 75 हजार रूपये तक लग चुकी है। ”
अब्दुल ने कहा कि पांच लाख रूपये से कम इसको बेचने का सवाल ही नहीं उठता। अगर कोई खरीददार नहीं मिला तो वापस अपने साथ घर ले जाऊंगा। 

उधर, बकरामंडी में पांच हजार रूपये से शुरू होने बिक्री में एक से बढकर एक बेहतर नस्ल के बकरे शामिल है। एक दुकानदार रईस अहमद ने कहा कि बाराबंकी से वह करीब 250 बकरे दो दिन पहले लेकर आया था जिसमें अभी 25 बकरे बिक्री के लिये बचे है। बकरों के लालन पालन में काफी खर्चा होता है, इस लिहाज से कीमत अधिक नहीं है लेकिन अब खरीददार स्मार्ट हो गया है और दस जगह माेलभाव करके बकरे खरीदता है। 

गौरतलब है कि इस्लाम में गरीबों और मजलूमों का खास ध्यान रखने की परंपरा है। इसी वजह से बकरीद पर भी गरीबों का विशेष ध्यान रखा जाता है। इस दिन कुर्बानी के बाद गोश्त के तीन हिस्से किए जाते हैं जिसमें एक हिस्सा खुद के लिए और शेष दो हिस्से समाज के गरीब और जरूरतमंद लोगों में बांट दिए जाते हैं। ऐसा करके मुस्लिम इस बात का पैगाम देते हैं कि अपने दिल की करीबी चीज़ भी हम दूसरों की बेहतरी के लिए अल्लाह की राह में कुर्बान कर देते हैं।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories