• [EDITED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 10 July, 2019 09:45 PM | Total Read Count 481
  • Tweet
अंतिम सस्कार होना था, मां रोने लगी और हुआ चमत्कार!

हैदराबाद। शहर के एक अस्पताल में डेंगू और पीलिया से पीड़ित 18 वर्षीय युवक गंधम किरण को ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया था, जिसे अब चमत्कारिक रूप से होश आ गया है। किरण की जान बचने की उम्मीद ही नहीं थी और उसके रिश्तेदारों और दोस्तों ने तो उसके अंतिम संस्कार की तैयारी तक कर ली थी। जब डॉक्टरों ने यह घोषणा कर दी कि किरण के बचने की कोई उम्मीद नहीं है, तो उसे वेंटिलेटर से भी हटा दिया गया था और 3 जुलाई को तेलंगाना के सूर्यपुरी जिले के पिल्लमरी गांव में उसके घर में वापस एंबुलेंस में ऑक्सीजन मास्क पहने पहुंचाया गया।

जैसा कि किरण के परिवार को सूचित किया गया था कि वह एक-दो घंटे में अंतिम सांस लेगा, इसके बाद उसके रिश्तेदार अंतिम संस्कार के लिए उनके घर पर एकत्र हो गए थे। किरण की मां, गंधम सैदम्मा, जिन्हें अपने बेटे की स्थिति के बारे में जानकारी नहीं थी, अंतिम संस्कार के लिए फूल, जलाऊ लकड़ी और अन्य सामग्री की व्यवस्था कर रहे रिश्तेदारों को देख हैरान रह गई और रो पड़ी।

इसके बाद आधी रात के करीब कुछ रिश्तेदारों ने किरण के गाल पर आंसू देखे। उन्होंने एक स्थानीय पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर (आरएमपी) जी. राजाबाबू रेड्डी को बुलाया, जिन्होंने रोगी की जांच की और एक बेहोश नाड़ी पाई। उन्होंने हैदराबाद के अस्पताल में किरण का इलाज करने वाले डॉक्टर से बात की और उनकी सलाह पर इंजेक्शन लगाना शुरू कर दिया।

इसके बाद डॉक्टर ने किरण के शरीर में कुछ गतिविधि देखी तो उसे स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। तीन दिनों के उपचार के बाद किरण को होश आया और वह अपनी मां से बात करने लगा।किरण की मां सैदम्मा ने फोन पर आईएएनएस को बताया, "अब वह घर वापस आ गया है और कुछ तरल आहार ले रहा है। हम दवा जारी रख रहे हैं,"।

सैदम्मा ने कहा, उनका मानना है कि भगवान ने उनकी प्रार्थनाओं को सुना और उसके छोटे बेटे की जान बचा ली। उन्होंने कहा कि 2005 में अपने पति को खोने के बाद, मैंने अपने दो बेटों को पालने के लिए मजदूरी की और उन्हें शिक्षा दी। वे मेरे लिए सब कुछ हैं।

किरण सूर्यापेट के एक कॉलेज में बैचलर ऑफ साइंस (बीएससी) का छात्र है। उनके बड़े भाई सतेश ने बताया कि किरण को 26 जून को उल्टी और दस्त होने लगे थे। उसे पहले सूर्यापेट के सरकारी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जब उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ, तो उसे हैदराबाद के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां डेंगू और पीलिया का पता चला और बाद में वह कोमा में चला गया।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories