• [EDITED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 10 September, 2019 07:37 PM | Total Read Count 259
  • Tweet
चीन—पाक से निपटने सेना पर खर्च होंगे 130 अरब डॉलर

नई दिल्ली। पाकिस्तान हमेशा से ही भारत के सामने सुरक्षा के लिहाज से समस्या खड़ी करता रहा है। लेकिन अब चीन और पाकिस्तान के गठजोड़ से आनेवाले समय में यह चुनौतियां बढ़ेगी। बहुत आशंका है कि कभी अगर जंग के हालात बने तो भारत के अपनी तैयारी ऐसी रखनी होगी कि वह एक साथ दो मोर्चे पर युद्ध कर सके। पाकिस्तान तो भारत को हमेशा से ही शत्रु रहा है लेकिन आकार और शक्ति में छोटा होने के कारण भारत को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा पाता है लेकिन जिस तरह चीन के इरादे ठीक नहीं लग रहे हैं उसे देखते हुए हमारी सेना का आधुनिकीकरण बहुत जरुरी है। सरकार ने सशस्त्र बलों की युद्धक क्षमताओं को मजबूती देने के लिये अगले पांच-सात सालों में 130 अरब अमेरिकी डॉलर खर्च करने की व्यापक योजना तैयार की है। एक आधिकारिक दस्तावेज में यह जानकारी दी गई। 

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि सरकार ने थल सेना, नौसेना और वायुसेना के आधुनिकीकरण को तेजी देने के लिये व्यापक योजना पर फैसला किया है जिसके तहत अगले कुछ सालों में जरूरी हथियारों, मिसाइलों, युद्धक विमानों, पनडुब्बियों और युद्धपोतों को अगले कुछ सालों में हासिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सेना की तात्कालिक प्राथमिकता में पैदल सेना का आधुनिकीकरण है, जिसके तहत भारतीय सेना में पैदल सेना के लिये 2600 युद्धक वाहनों के साथ ही भविष्य में 1700 तैयार युद्धक वाहनों की खरीद शामिल है। 

एक अन्य प्रमुख प्राथमिकता वायुसेना के लिये 110 बहुउद्देशीय युद्धक विमानों की खरीद है। आधिकारिक दस्तावेज में कहा गया, “सरकार अगले 5-7 सालों में सभी सशस्त्र बलों में बेड़े के आधुनिकीकरण पर 130 अरब अमेरिकी डॉलर खर्च करेगी।” सशस्त्र बल पर्याप्त कोष मुहैया कराने के लिये दबाव बना रहे हैं जिससे उत्तरी और पश्चिमी सीमा पर “दो मोर्चों” पर युद्ध की स्थिति में वे इससे निपटने के लिये पूरी तरह तैयार रहें। 

सूत्रों ने कहा कि सरकार चीन द्वारा अपनी वायुसेना और नौसेना की शक्ति में महत्वपूर्ण तरीके से इजाफा किये जाने से वाकिफ है ऐसे में लक्ष्य यह है कि वायुसेना और नौसेना को उनके विरोधियों की क्षमताओं के अनुरूप ही आधुनिक बनाया जाए। अपनी संचालन क्षमताओं को बढ़ाने के लिये नौसेना ने पहले ही अगले तीन-चार सालों में 200 पोतों, 500 विमानों और 24 हमलावर पनडुब्बियों की योजना तैयार की है। फिलहाल नौसेना के पास करीब 132 जहाज, 220 विमान और 15 पनडुब्बियां हैं। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories