• [WRITTEN BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 19 August, 2019 08:04 PM | Total Read Count 265
  • Tweet
टुकड़े गैंग और शेहला रशीद !

शेहला रशीद भारतीय सेना के खिलाफ ट्वीट कर बुरी तरह फंस गई है। शेहला ने सेना पर सवाल उठाते हुए लगभग 10 टवीट किए थे जिसमें उसने दावा किया था कि भारतीय सेना द्वारा घाटी के लोगों पर अत्याचार किए जा रहे हैं। उसके बाद सेना ने भी शेहला के आरोप का जवाब देते हुए टवीट किया कि इस तरह की खबरें फर्जी हैं। कुछ लोग ऐसी फर्जी खबरें फैलाकर कश्मीर में माहौल खराब करना चाहते हैं। सेना ने यह सफाई इसलिए भी दी क्योंकि पाकिस्तान खुद इस तरह के भ्रामक प्रचार करने में लगा हुआ है। पाकिस्तान की दाल पूरे विश्व में कहीं नहीं गली इसलिए अब वह चाहता है कि कश्मीर में खून—खराबा हो तो वह फिर से विश्व में हल्ला मचाए। इसलिए वह भ्रामक खबरें, वीडियो आदि फैला रहा है। हमारे यहां के कुछ असमाजिक तत्व और कुछ तथाकथित बुद्धिजीवी भी पाकिस्तान के इस प्रोपेगेंडा का हिस्सा बन रहे हैं। जिससे कि वह मुसीबत में भी पड़ सकते हैं। 

आखिर शेहला रशीद कौन है ? शेहला रशीद श्रीनगर की रहने वाली है। वह जेएनयू की छात्रा रही है और 2015—16 में जेएनयू में छात्रसंघ की उपाध्यक्ष भी बनी थी। शेहला रशीद का नाम पहली बार तब सुना गया था जब जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी हुई थी। जेएनयू के कैंपस के अंदर नारे लगे थे— भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह, कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी, भारत की बर्बादी तक आजादी। जिसका वीडियो बाहर आने पर बहुत बवाल मच गया था। पुलिस ने इस देशविरोधी नारेबाजी पर कुछ लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। जिसका मामला अभी कोर्ट में है। इस चार्जशीट में जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, छात्र नेता उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को मुख्य आरोपी बनाया गया था। इन तीनों को इस मामले में जेल भी जाना पड़ा था।

इस विवाद का कन्हैया कुमार को बहुत फायदा मिला और उन्होने बेगूसराय से चुनाव तक लड़ा लेकिन वह चुनाव हार गए। शेहला रशीद ने कन्हैया कुमार के लिए चुनाव प्रचार भी किया था। शेहला रशीद इन्हीं लोगों के ग्रुप में आप को दिख जाएगी। शेहला रशीद और कन्हैया कुमार बहुत अच्छे दोस्त है। जेएनयू में साथ पढ़े है। टीवी चैनलों पर भी यह एक साथ मिल जाएंगे। शेहला कश्मीरी है और कश्मीरी लोगों की आवाज को जब—तब मौका मिलता है उठाती है। वह  मोदी, बीजेपी और आरएसएस की घोर विरोधी भी है। यूटयूब पर उनके ऐसे कई भाषण सुने जा सकते है जिन्हें सुनकर आपको समझ में नहीं आएगा कि यह देश के खिलाफ बोल रही है या कश्मीरियों की आवाज़ उठा रही है। इनकी बातें अलगाववादी से बहुत हमदर्दी जताने वाली लगती है।  

शेहला रशीद शाह फैसल की पार्टी जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट से भी जुड़ी हुई है। शाह फैसल वही है जिन्हें कुछ दिन पहले पुलिस ने एयरपोर्ट से पकड़ा था जब वह देश से बाहर जाने की कोशिश कर रहे थे। फैसल ने बीबीसी को भी इंटरव्यू दिया था जिसमें सरकार के कश्मीर पर लिये गए फैसले के खिलाफ भड़काउ बातें की गई है। 

कश्मीर के दो टुकड़े होने पर शेहला का कहना है कि सरकार ने ज्यादती की है और बिना कश्मीरियों से पूछे उसने राज्य के दो टुकड़े कर दिये है। कश्मीरियों से उनकी पहचान छीन ली है। जब उनसे पूछा गया कि 370 हटाने से वहां की कश्मीरी महिलाओं को फायदा होगा तो उनका कहना था कि सरकार को इसके लिए महिलाओं के बीच जाकर उनकी राय जाननी चाहिए थी। शेहला मोदी सरकार के इस फैसले से बिल्कुल भी खुश नही है।

फिलहाल शेहला रशीद मुसीबत में है। सुप्रीम कोर्ट के एक वकील ने उनके भड़काउ टवीट पर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। सेना का स्पष्टीकरण आने की वजह से यह मामला तूल पकड़ सकता है और शेहला रशीद को जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories