• [POSTED BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 24 August, 2019 02:20 PM | Total Read Count 164
  • Tweet
श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2019

भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 2019 में जन्माष्टमी 24 अगस्त को है।  श्रीकृष्ण ने अपना अवतार श्रावण माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में लिया। चूंकि भगवान स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे अत: इस दिन को कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान विष्णु जी के पूर्णावतार को ही भगवान श्रीकृष्ण के रूप माना और उनकी पूजा होती हैं।

मान्यता है कि भगवान कृष्ण मानव जीवन के सभी चक्रों (यानि जन्म, मृत्यु, शोक, खुशी आदि) से गुजरे हैं, इसीलिए उन्हें पूर्णावतार कहा जाता है। भविष्य पुराण के अनुसार भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मध्यरात्रि को रोहिणी नक्षत्र में भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। इसीलिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मथुरा नगरी भक्ति के रंगों से सराबोर हो उठती है। कृष्ण जन्मभूमि पर देश–विदेश से लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है और पूरे दिन व्रत रखकर नर-नारी तथा बच्चे रात्रि 12 बजे मन्दिरों में अभिषेक होने पर पंचामृत ग्रहण कर व्रत खोलते हैं। कृष्ण जन्मभूमि के अलावा द्वारकाधीश, बिहारीजी एवं अन्य सभी मन्दिरों में इसका भव्य आयोजन होता है, जिनमें भारी भीड़ होती है।

कृष्ण जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है?

भगवान कृष्ण या गोविंदा को भगवान विष्णु का सबसे शक्तिशाली अवतार माना जाता है। उन्होनें धरती पर से राक्षसों के साम्राज्य को खत्म करने के लिए जन्म लिया था। भगवान कृष्ण देवकी और वासुदेव का आठवाँ बच्चा था। देवकी एक क्रूर राजा, कंस की बहन थी। कंस को अपनी ताकत का घमंड था, उसकी सोच थी की लोगों को भगवान की जगह उसकी पूजा करनी चाहिए। उन्होंने निर्दोष लोगों को बेरहमी से मारना शुरू कर दिया जो उसका सम्मान करने से इंकार करते थे। उसका अत्याचार दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा था। एक दिन एक भविष्यवाणी हुई की कंस देवकी और वासुदेव के 8 वें बच्चे द्वारा मारा जाएगा। इसे रोकने के लिए कंस ने अपनी बहन को अपने पति के साथ कालकोठरी में बंद करवा दिया। जब भी देवकी बच्चे को जन्म देती, कंस उस बच्चे को मार देता था। जब देवकी और वासुदेव के 8 वें बच्चे का जन्म हुआ तो भगवान विष्णु ने वासुदेव से उन्हें गोकुल ले जाने के लिए कहा जहाँ नंद और यशोदा रहते थे। वासुदेव ने बच्चे को गोकुल पहुँचाने के लिए यमुना नदी पार की। गोकुल पहुंचकर वासुदेव ने अपने बेटे को यशोदा की बेटी से बदल लिया और वापस जेल लौट आया। कंस ने सोचा की वह देवकी और वासुदेव का 8 वां बच्चा हैं इसलिए उसने उसे पत्थर पर फेंक दिया।

कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव

इस दिन लोग जन्माष्टमी कि पूर्व संध्या पर उपवास करते है जिसे सप्तमी कहा जाता है। कृष्ण भक्त रात भर जागते रहते है और भगवान कृष्ण का सम्मान करने के लिए गाने गाते हैं।मध्यरात्रि 12 बजे, दूध से मूर्ति को नहलाते है और सुंदर कपड़े, गहने पहनाते है फिर पूजा के लिए पालना में रखा जाता हैं। देवताओं को मिठाई भेंट की जाती है और फिर भक्तों के बीच बांटी जाती हैं।भगवान् कृष्ण के भक्त कृष्ण भजनों के साथ नृत्य करते हैं साथ ही वे कृष्ण झांकी का एक अति उत्कृष्ट प्रदर्शन आयोजित करते है जो रस लीला को एक विशाल तरीके से दर्शाता हैं। जन्माष्टमी की सबसे लोकप्रिय गतिविधि दही हांड़ी का रिवाज हैं। इस परंपरा को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है।

कृष्ण जन्माष्टमी का महत्व

जन्माष्टमी का अपना महत्व है। भगवन विष्णु ने भगवत गीता नामक प्राचीन काल की एक पवित्र पुस्तक में कहा है की जब समाज में बुराई का प्रभाव बढ़ेगा और धर्म की गिरावट होगी तो मैं इस दुनिया में पुनर्जन्म दूंगा और बुराई को खत्म करने और अच्छाई का साथ देने के लिए भी पुनर्जन्म दूंगा।

इस त्यौहार का मुख्य महत्व नेक नियत को प्रोत्साहित करने और बुरी इच्छा को हतोत्साहित करने में निहित हैं। एकता के लिए भी कृष्ण जन्माष्टमी मनाया जाता हैं। यह पवित्र त्यौहार लोगों के बीच भाईचारे को बढ़ावा देता है इसलिए जन्माष्टमी को एकता का प्रतीक माना जाता हैं।

जन्माष्टमी पूजा विधि 

श्री कृष्ण का जन्म वसुदेव तथा देवकी के घर रात्री 12 बजे हुआ था। इसलिए पूरे भारत मे कृष्ण जन्म को रात्री मे ही 12 बजे मनाया जाता है। हर साल भादव मास की अष्टमी के दिन रात्रि मे 12 बजे हर मंदिर तथा घरो मे प्रतीक के रूप मे लोग श्री कृष्ण का जन्म   करते है। जन्म के बाद उनका दूध, दही तथा शुध्द जल से अभिषेक करते है, तथा माखन मिश्री, पंजरी तथा खीरा ककड़ी का भोग लगाते है। तत्पश्चात कृष्ण जी की आरती करते है, कुछ लोग खुशी मे रात भर भजन कीर्तन करते तथा नाचते गाते है।

माखन मिश्री कृष्ण जी को बहुत प्रिय था। अपने बाल अवतार मे उन्होने इसी माखन के लिए कई गोपियो की मटकिया फोड़ी थी और कई घरो से माखन चुरा कर खाया था। इसलिए उन्हे माखन चोर भी कहा जाता है। और इसी लिए उन्हे माखन मिश्री का भोग मुख्य रूप से लगाया जाता है। कई जगह पर मटकी फोड़ प्रतियोगिता भी की जाती है, इसमे एक मटकी मे माखन मिश्री भरकर इसे उची रस्सी पर बांध दिया जाता है और विभिन्न जगह से मंडलीया आकर इसे तोड्ने का प्रयास करती है और कृष्ण जन्म उत्सव मनाती है।

कुछ लोग इस दिन पूरे दिन का व्रत/उपवास रखते है और कृष्ण जन्म के पश्चात भोजन गृहण करते है। इस दिन के व्रत/उपवास की विधि एकदम साधारण होती है कुछ लोग निराहार रहकर व्रत करते है, तो कुछ लोग फल खाकर व्रत करते है, तो कुछ लोग फरियाल खाकर व्रत/उपवास करते है क्योकि व्रत/उपवास के लिए कोई नियम नहीं है। श्रद्धालु अपनी इच्छा अनुसार व्रत/उपवास कर सकते है और श्री कृष्ण की भक्ति कर सकते है।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories