• [WRITTEN BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 13 August, 2019 08:41 AM | Total Read Count 127
  • Tweet
कांग्रेस से तालमेल नहीं करेंगी मायावती

बहुजन समाज पार्टी की नेता मायावती किसी से तालमेल कर लेंगी पर कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं बनाएंगी। सेकुलर या भाजपा विरोधी पार्टियों में बसपा संभवतः इकलौती पार्टी है, जिसने कांग्रेस से तालमेल नहीं किया है। इस बार लोकसभा चुनाव में ऐसा लग रहा था कि सपा और बसपा के गठबंधन में कांग्रेस को भी जगह मिल जाएगी पर मायावती ने ऐसा नहीं होने दिया। उन्होंने सपा नेता अखिलेश यादव को भी मजबूर किया कि वे अपने गठबंधन में कांग्रेस को नहीं शामिल करें। 

लोकसभा चुनाव से पहले तीन राज्यों- मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा के चुनाव हुए। उसमें भी मायावती ने कांग्रेस से तालमेल नहीं किया। चुनाव के बाद वे हर बार कांग्रेस की सरकार का समर्थन करती हैं। जैसा उन्होंने कर्नाटक में किया था और अभी मध्य प्रदेश व राजस्थान में कर रही हैं। पर चुनाव वे हमेशा कांग्रेस के खिलाफ लड़ती हैं। इसका एक कारण तो यह है कि उनको लगता है कि अगर उन्होंने एक बार अपना दलित वोट कांग्रेस को ट्रांसफर कराया तो वह उसके पास ही रह जाएगा क्योंकि पारंपरिक रूप से दलित वोट कांग्रेस का ही रहा है, जिसे बसपा ने हथिया लिया। 

इस साल जिन राज्यों में चुनाव होने वाले हैं उनमें भी कांग्रेस के साथ बसपा का तालमेल नहीं होगा। बसपा ने हरियाणा में इनेलो से अलग हुए जननायक जनता पार्टी से तालमेल किया है। इससे पहले बसपा और इनेलो का तालमेल था और बसपा राज्य में बनी एक और नई पार्टी राजकुमार सैनी की लोकतांत्रिक सुरक्षा पार्टी से भी तालमेल कर चुकी है। पर वह कांग्रेस के साथ नहीं जाएगी। वैसे कांग्रेस के नेता उम्मीद कर रहे हैं कि जिस तरह छत्तीसगढ़ में अजित जोगी के साथ बसपा के तालमेल से कांग्रेस को फायदा हुआ था वैसा ही फायदा उसे हरियाणा में भी हो सकता है। 

बहरहाल, यह भी कहा जा रहा है कि मायावती दबाव में हैं कि वे कांग्रेस से तालमेल न करें। ध्यान रहे उनके खिलाफ कई मामले पहले से चल रहे हैं और उनके मुख्यमंत्रित्व काल में चीनी मिल बेचने के मामले में भी सीबीआई जांच शुरू हो गई है। कहा जा रहा है कि ऐसे ही दबाव की वजह से उन्होंने सपा से भी तालमेल तोड़ा। कांग्रेस के नेता मान रहे हैं कि जिस तरह महाराष्ट्र में बहुजन विकास अघाड़ी के नेता प्रकाश अंबेडकर ने ओवैसी की पार्टी से तालमेल किया है उसमें अगर बसपा और कांग्रेस का तालमेल बन जाए तो कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को बड़ा फायदा हो सकता है। पर मायावती इसके लिए किसी हाल में तैयार नहीं हो रही हैं। वे कांग्रेस छोड़ कर किसी के साथ तालमेल करने को तैयार हैं।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories