• [WRITTEN BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 14 August, 2019 07:17 AM | Total Read Count 274
  • Tweet
कांग्रेस की समस्या, कश्मीर पर लाइन!

इसमें संदेह नहीं है कि कांग्रेस में हमेशा हर मसले पर नेताओं का अलग अलग राय रही है और वे उसे जाहिर भी करते रहे हैं। सरकार में रहते हुए भी नीतिगत मसले पर पार्टी नेताओं के मतभेद सामने आते थे। तभी जब कश्मीर में अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने का फैसला हुआ और कांग्रेस नेताओं की अलग अलग राय जाहिर हुई तो यह बहुत स्वाभाविक लगा। कुछ नेताओं ने इसका खुला समर्थन किया तो कुछ ने इसकी प्रक्रिया पर आपत्ति जताई और थोड़े से नेता ऐसे थे, जिन्होंने इसका पूरी तरह से विरोध किया।

उसके बाद पार्टी ने देश भर के तमाम वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई यह तय करने के लिए कश्मीर मसले पर पार्टी की क्या लाइन होगी। शुक्रवार को यह बैठक हुई। इसमें कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी बुलाया गया था पर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और पंजाब के मुख्यमंत्री शामिल नहीं हुए। फिर भी पार्टी के महासचिव, प्रदेश अध्यक्षों, विधायक दल के नेताओं और दूसरे पदाधिकारी शामिल हुए। सवाल है कि उस बैठक में पार्टी ने कश्मीर पर क्या लाइन तय की? राहुल और प्रियंका जो कह रहे हैं वह लाइन है या लोकसभा में नेता अधीर रंजन चौधरी ने कही वह लाइन है या ज्योतिरादित्य सिंधिया, दीपेंद्र हुड्डा, मिलिंद देवड़ा आदि ने जो कहा वह लाइन है या अब पी चिदंबरम और मणिशंकर अय्यर जो कह रहे हैं वह लाइन है?

किसी को पता नहीं है कि शुक्रवार की बैठक में पार्टी ने क्या लाइन तय की। पार्टी ने जो लाइन तय की हो उसे भले मणिशंकर अय्यर न मानें पर पी चिदंबरम पर पार्टी की लाइन पर ही चलते हैं। तो क्या माना जाए कि कांग्रेस यह मान रही है कि कश्मीर चूंकि मुस्लिम बहुल राज्य है इसलिए सरकार ने उसके साथ ज्यादती की, जबकि 370 जैसे अनुच्छेद और कई राज्यों में लागू हैं? यह बात चिदंबरम ने कही है। उन्होंने कश्मीर के मसले को धर्म से जोड़ा है। कांग्रेस को इस पर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। 

दूसरी ओर मणिशंकर अय्यर ने कश्मीर की स्थिति की तुलना फिलस्तीन से कर दी है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को निशान बनाते हुए कहा कि मोदी और शाह ने भारत की उत्तरी सीमा पर एक फिलस्तीन का निर्माण कर दिया है। अय्यर पहले  भी इस तरह के बयान देते रहे हैं पर तब ऐसा नहीं होता था कि पार्टी ने किसी मसले पर कोई लाइन तय की हो और उसका उल्लंघन करके अय्यर ने बयानबाजी की हो। सो, इस पर भी कांग्रेस को स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। पार्टी को आधिकारिक रूप से बताना चाहिए कि कश्मीर के घटनाक्रम पर उसका क्या स्टैंड है। 

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories