• [WRITTEN BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 13 August, 2019 07:41 AM | Total Read Count 145
  • Tweet
झारखंड में जदयू के लड़ने से भाजपा को फायदा!

बिहार में भाजपा की सहयोगी जनता दल यू ने झारखंड विधानसभा चुनाव में अकेले लड़ने का ऐलान किया है। पहले की तरह जदयू दिल्ली में भी अकेले लड़ेगी पर दिल्ली के मुकाबले झारखंड में उसका ज्यादा है। इसका एक कारण तो यह है कि झारखंड का बड़ा हिस्सा बिहार से लगा है, जिसमें बिहार की पार्टियों का असर रहता है। पहले राजद का असर इन इलाकों में था। अब उसका असर है पर पहले से कम हो गया है। बिहार में सत्तारूढ़ जदयू इस इलाके में अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। दूसरा कारण यह है कि झारखंड में कुर्मी या महतो आबादी अच्छी खासी है। करीब 20 फीसदी इसके वोटर हैं। जदयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस जाति के सबसे बड़े नेता हैं। झारखंड में भाजपा की सहयोगी आजसू के नेता सुदेश महतो भी इसी जाति की राजनीति करते हैं। 

सो, पहली नजर में ऐसा लग रहा है कि जदयू के चुनाव लड़ने से आजसू को नुकसान होगा, जिसका असर भाजपा के प्रदर्शन पर भी पड़ेगा। पर असल में इसका फायदा भी भाजपा को हो सकता है। ध्यान रहे झारखंड में भाजपा की मुख्य प्रतिद्वंद्वी झारखंड मुक्ति मोर्चा भी आदिवासी और महतो वोट की राजनीति करती है। कोल्हान और छोटानागपुर के इलाके में महतो वोट जेएमएम के साथ जाते हैं। अगर जदयू ने इन इलाकों में कुर्मी उम्मीदवार उतारे तो उसका ज्यादा नुकसान जेएमएम को होगा। 

ध्यान रहे पिछले चुनाव में जेएमएम ने इस इलाके में अच्छा प्रदर्शन किया था। यहां तक कि सबसे बड़े महतो नेता सुदेश महतो को उनके गढ़ सिल्ली में जेएमएम के अमित महतो ने हरा दिया था। सो, ऐसा भी हो सकता है कि नीतीश कुमार की पार्टी हेमंत सोरेन की जेएमएम को ज्यादा नुकसान पहुंचा दे। ध्यान रहे उन्होंने सभी 81 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। ज्यादातर सीटों पर उसका कोई खास असर नहीं होगा पर जेएमएम के मजबूत इलाकों में उसका असर हो सकता है। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories