• [EDITED BY : नया इंडिया टीम] PUBLISH DATE: ; 17 April, 2019 08:58 AM | Total Read Count 160
  • Tweet
क्षत्रपों पर मोदी के अटैक का नुकसान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसा लग रहा है कि 2015 के दिल्ली और बिहार विधानसभा चुनाव के अनुभव से कोई सबक नहीं लिया है। इसलिए वे इस बार भी राज्यों में चुनाव प्रचार के दौरान प्रादेशिक क्षत्रपों को निशाना बना रहे हैं। 2015 की जनवरी में प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली में अरविंद केजरीवाल पर निजी हमले किए थे। उनको नक्सली कहा था। और उसी साल नवंबर में बिहार में नीतीश कुमार पर निजी हमला करते हुए उनका डीएनए खराब बताया था। नतीजा यह हुआ कि दोनों राज्यों में भाजपा साफ हुई। इस बार फिर मोदी लोकसभा चुनाव के प्रचार में प्रादेशिक क्षत्रपों को निशाना बना रहे हैं। उनको भी जिनके साथ कुछ समय पहले तक गठबंधन में शामिल थे। 

हैरान करने वाले अंदाज में मोदी ने महाराष्ट्र में शरद पवार को निशाना बनाया है। पवार के प्रति उनका प्रेम सब जानते हैं। वे खुद ही बरामती में कह चुके हैं कि वे संकट के समय पवार से राजनीतिक सलाह लेते थे। 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा को सरकार बनाने के लिए एनसीपी ने ही बाहर से समर्थन दिया था। पर अब वे पवार पर निजी हमले कर रहे हैं। महाराष्ट्र के मराठा मतदाताओं में इसका अच्छा मैसेज नहीं जा रहा है। पवार 50 साल से सक्रिय राजनीति में हैं और उनके प्रति महाराष्ट्र के लोगों का सम्मान है। 

इसी तरह मोदी ने आंध्र प्रदेश के प्रचार में चंद्रबाबू नायडू पर निजी हमला किया और कहा कि उन्होंने अपने ससुर एनटी रामाराव की पीठ में छुरा भोंका। इस पर वहां तीखी प्रतिक्रिया हुई। सोशल मीडिया के प्रचार में मोदी के ससुर और उनकी पत्नी को घसीटा गया और भाजपा के बुजुर्ग नेताओं की दुर्गति के मुद्दे पर भी खूब चर्चा हुई। लोग मानते हैं कि विपक्ष पर हमला करना ठीक है पर स्थानीय नेताओं और क्षत्रपों के प्रति लोगों के सद्भाव का भी ध्यान रखना जरूरी होता है। प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू कश्मीर में मुफ्ती मोहम्मद सईद पर भी निशाना साधा और फारूक व उमर अब्दुल्ला पर भी हमला किया। हकीकत यह है कि वे पिछले साल जून तक मेहबूबा की पार्टी के साथ तालमेल करके सरकार में शामिल थे और उससे पहले एनडीए एक के समय अब्दुल्ला परिवार भाजपा के साथ था। भाजपा के ही नेता मान रहे हैं कि इस तरह का प्रचार अब लोगों में अपील नहीं कर रहा है। पिछली बार भी मोदी मुफ्ती बाप-बेटी पर लूट का आरोप लगा रहे थे और चुनाव के बाद उन्हीं के साथ सरकार बना ली। इससे भी लोगों का भरोसा नहीं बन रहा है।  

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories