• [WRITTEN BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 14 August, 2019 07:02 AM | Total Read Count 131
  • Tweet
अखिलेश यादव की मुश्किलें बढ़ेंगी

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। अवैध खनन के मामले में सीबीआई की जांच आगे बढ़ रही है। बताया जा रहा है कि सीबीआई राज्य के रिटायर हो चुके छह पूर्व नौकरशाहों से पूछताछ करने जा रही है। इस सिलसिले में सीबीआई ने कई नए मामले दर्ज किए हैं और पिछले ही दिनों कई मौजूदा नौकरशाहों के यहां छापे मारे गए थे। अखिलेश यादव के साथ काम कर चुके अधिकारियों से पूछताछ में नए तथ्य सामने आएंगे। ध्यान रहे जिस समय खनन के पट्टे देने का फैसला हुआ था उस समय अखिलेश के पास ही खनन मंत्रालय भी था। 

अखिलेश यादव 2012 से 2017 के बीच राज्य के मुख्यमंत्री थे। उस दौरान 2012-13 में खनन मंत्रालय का प्रभार उन्हीं के पास था। उसी समय खनन के 14 पट्टे दिए गए थे। बताया जा रहा है कि 17 फरवरी 2013 को एक दिन में 13 माइनिंग लाइसेंस की मंजूरी दी गई थी। आरोप है कि ई-टेंडर प्रक्रिया का उल्लंघन करके ये पट्टे दिए गए थे। इसकी जांच की आंच अखिलेश तक पहुंच सकती है। 

ध्यान रहे लोकसभा चुनाव में हारने के बाद अखिलेश यादव बहुत लो प्रोफाइल मेंटेन कर रहे हैं। इसके बावजूद उनकी मुश्किलें बढ़ रही हैं। उनकी पार्टी के सांसदों के टूटने का सिलसिला जारी है। अब तक तीन राज्यसभा सांसद पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं। कम से कम दो और सांसद इस्तीफा दे सकते हैं। ऐसे में अगर अवैध खनन की जांच उन तक पहुंचती है तो पार्टी में और मुश्किल बढ़ेगी। अगर पार्टी में भगदड़ नहीं थमी तो अगले चुनाव से पहले तक सपा पूरी तरह से हाशिए में जाएगी। इसी तरह चीनी मिल खरीद घोटाले में केंद्रीय एजेंसियों की जांच की आंच बसपा प्रमुख मायावती तक भी पहुंची है। हालांकि उनकी पार्टी अभी सुरक्षित दिख रही है। या किसी रणनीति के तहत भाजपा ने अभी बसपा को कमजोर करने की मुहिम नहीं छेड़ी है। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories