• [WRITTEN BY : Ajay Setia] PUBLISH DATE: ; 14 August, 2019 06:51 AM | Total Read Count 393
  • Tweet
मोदी की विदेश यात्राओं का असर

अजय सेतिया 

नरेंद्र मोदी ने पहले कार्यकाल में जमकर विदेश यात्राएं की थी तो विपक्ष ने खिल्ली उडाई थी लेकिन अब उन्हें समझ आ गया होगा कि उन्हीं यात्राओं से बने सम्बन्धों के कारण कश्मीर से 370 हटाए जाने के खिलाफ कोई भी देश पाकिस्तान के साथ नहीं खड़ा है, यहाँ तक कि कोई मुस्लिम देश भी नहीं। मोदी सरकार ने दुबारा सत्ता में आने पर कश्मीर में 370 हटाने की तैयारी चुनाव नतीजों से पहले ही शुरू कर दी थी। हालांकि सुषमा स्वराज को विदेश मंत्री बनाया जाना था  लेकिन समानांतर व्यवस्था के लिए एस. जयशंकर को तैयार किया हुआ था , जो विदेशी मोर्चा सम्भालते और गृह मंत्री के तौर पर अमित शाह की तैयारी थी ही | राजनाथ सिंह को दुबारा गृह मंत्री बनाने की कोई योजना नहीं थी शायद यह बात उन्हें खुद को भी पता रही होगी | जानकारों के अनुसार सुषमा स्वराज ने दुबारा विदेशमंत्री बनने से इंकार कर दिया था  इसलिए पहले से तैयार मोदी की समानांतर योजना के तहत जयशंकर केबिनेट मंत्री बनाए गए |

मोदी को आशंका थी कि भारत में तो विपक्ष हल्ला करेगा साथ ही अंतर्राष्ट्रीय मोर्चे को भी संभालना पड़ेगा। इसलिए एस. जयशंकर ने विदेश मंत्री का पद संभालते ही 370 हटाने पर होने वाली अन्तरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया को संभालने की तैयारी शुरू कर दी थी | उन्होंने रूस, चीन . अमेरिका के अलावा पोलेंड जैसे छोटे देशों तक से बातचीत कर ली थी , जो फिलहाल रोटेशन के मुताबिक़ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष है | भारत को पता था कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आवाज उठाएगा | इसलिए पाकिस्तान ने सोमवार को जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अलख जगाई तो पोलेंड से बयान आया कि भारत और पाकिस्तान को कश्मीर का मसला आपसी बातचीत में सुलझाना चाहिए | 

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य रूस ने शनिवार को 370 हटाए जाने को भारत का अंदरुनी मामला और भारतीय संविधान के तहत उस का अधिकार बता कर अपना स्टेंड स्पष्ट कर दिया था | चीन के विरोध में खड़े होने का खतरा था, इसलिए उन्होंने अपनी चीन यात्रा पहले से ही निर्धारित कर ली थी | पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार संसद का सत्र दो दिन और 9 अगस्त शुक्रवार तक बढाया जाना था, 370 गुरूवार और शुक्रवार को ही हटाई जानी थी| 4 अगस्त को नया इंडिया के अपने कालम में अपन ने 370 हटाए जाने की सरकारी योजना का खुलासा करते हुए इस रणनीति पर लिखा था | उसी रणनीति के तहत ही एस.जयशंकर ने 10 अगस्त का चीन दौरा तय किया हुआ था | 

विदेशमंत्री एस. जयशंकर रविवार को बीजिंग पंहुचे| सोमवार को चीन के विदेशमंत्री वांग वी से हुई बातचीत में उन्होंने चीन को आश्वस्त किया कि भारत के इस आंतरिक-संवैधानिक निर्णय से भारत –चीन वास्तविक नियन्त्रण रेखा या भारत-पाक नियन्त्रण रेखा पर कोई असर नहीं होगा | यह आश्वासन देना इसलिए जरूरी था क्योंकि 370 हटाए जाने के बाद भारत में पाकिस्तान और चीन के कब्जे वाले कश्मीर के हिस्से को लेने की मांग उठनी शुरू हो चुकी है , इस सम्बन्ध में सोशल मीडिया पर तीनों देशों के नियन्त्रण वाले कश्मीर को दिखाया जा रहा है ,जिसे अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में भी उछाला जा रहा है | 

भारत ने चीन के सामने वही स्टेंड रखा है जो रूस ने सार्वजनिक तौर पर लिया है कि यह भारत का अंदरुनी संवैधानिक मामला है| भारत ने चीन को यह समझाने की कोशिश भी की है कि महाराजा हरिसिंह ने कश्मीर का विलय किसी शर्त पर नहीं किया था , बल्कि महाराजा ने जब पाकिस्तान से हुए हमले पर सैन्य मदद माँगी थी , तो भारत ने विलय की शर्त रखी थी |  भारत का संविधान बनाते समय कश्मीर को  कुछ अतिरिक्त अधिकार भारत ने अपनी मर्जी से दिए थे , जो अस्थाई थे | संविधान में इन्हें अस्थाई लिखा गया था , जिसे कभी न कभी हटाया ही जाना था |      

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories