• [EDITED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 19 June, 2019 06:37 AM | Total Read Count 46
  • Tweet
मोदी की बुलाई बैठक में नहीं होगी ममता

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी बुधवार को नरेंद्र मोदी की बुलाई बैठक में नहीं शामिल होंगी। उन्होंने कहा है कि एक राष्ट्र, एक चुनाव के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी की बुलाई बैठक में वे शामिल नहीं होंगी। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी के दूसरे कार्यकाल के शपथ समारोह में भी वे शामिल नहीं हुई हैं। गौरतलब है कि संसद सत्र शुरू होने से पहले हुई सर्वदलीय बैठक में मोदी ने एक राष्ट्र, एक चुनाव के मुद्दे का जिक्र छेड़ा था और इस मसले पर विचार के लिए 19 जून को सभी पार्टियों के अध्यक्षों की बैठक बुलाने की बात कही थी।

बहरहाल, ममता बनर्जी ने केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी को खत लिख कर बताया है कि वे प्रधानमंत्री मोदी की बुलाई सभी राजनीतिक दलों के अध्यक्षों की बैठक में शिरकत नहीं कर पाएंगी। ममता बनर्जी ने जोशी को लिखे पत्र में सरकार को सलाह दी कि वह एक राष्ट्र, एक चुनाव पर जल्दबाजी में फैसला करने के बजाए इस पर एक श्वेत पत्र तैयार करे। गौरतलब है कि मोदी ने उन सभी दलों के प्रमुखों को 19 जून को बैठक के लिए आमंत्रित किया है, जिनके लोकसभा या राज्यसभा में सदस्य हैं।

उन्होंने बताया है कि इस बैठक में एक राष्ट्र, एक चुनाव  के विचार, 2022 में आजादी के 75वें वर्ष के समारोह, महात्मा गांधी के इस साल 150वीं जयंती वर्ष को मनाने सहित कई मामलों पर चर्चा की जाएगी। इसके बाद 20 जून को सभी सांसद रात्रिभोज के समय बैठक करेंगे। इस बैठक में शामिल होने से इनकार करते हुए ममता बनर्जी पत्र में लिखा है - एक राष्ट्र, एक चुनाव जैसे संवेदनशील व गंभीर विषय पर इतने कम समय में जवाब देने से इस विषय के साथ न्याय नहीं होगा। इस विषय को संवैधानिक विशेषज्ञों, चुनावी विशेषज्ञों और पार्टी सदस्यों के साथ विचार विमर्श की जरूरत है।

ममता ने लिखा है - मैं अनुरोध करूंगी कि इस मामले पर जल्दबाजी में कदम उठाने की बजाए, आप कृपया सभी राजनीतिक दलों को इस विषय पर एक श्वेत पत्र भेजें, जिसमें उनसे अपने विचार व्यक्त करने को कहा जाए। इसके लिए उन्हें पर्याप्त समय दिया जाए। यदि आप ऐसा करते हैं, तभी हम इस महत्वपूर्ण विषय पर ठोस सुझाव दे पाएंगे। ममता बनर्जी ने आगे कहा कि पिछड़े जिलों के विकास के मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस पहले ही अपने विचार बता चुकी है कि वह कुछ जिलों के चयन के समर्थन में नहीं हैं, क्योंकि इससे राज्य के सभी जिलों के संतुलित व समान विकास का समग्र लक्ष्य पूरा नहीं होगा।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories