• [POSTED BY : Mohan Kumar] PUBLISH DATE: ; 11 September, 2019 10:02 PM | Total Read Count 26
  • Tweet
मोदी ने शुरू किया स्वच्छता ही सेवा अभियान

मथुरा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता के अपने महत्वाकांक्षी अभियान स्वच्छता ही सेवा है की शुरुआत श्रीकृष्ण की नगरी मथुरा से की। उन्होंने प्रकृति, पर्यावरण और पशुधन से प्रेम करने की बात कही और साथ ही यह धर्म को पिछड़ेपन की निशाने मानने वालों पर निशाना भी साधा। उन्होंने तंज करते हुए कहा कि इस देश में कुछ ऐसे लोग हैं, जिनके कान में ओम और गाय शब्द पड़ते ही उनके बाल खड़े हो जाते हैं। उनको लगता है कि देश 16वीं सदी में चला गया है।

प्रधानमंत्री ने बुधवार को स्वच्छता ही सेवा अभियान की शुरुआत करते हुए देश की जनता से एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को खत्म करने की अपील की। दो अक्टूबर तक अपने घरों, दफ्तरों को ऐसे प्लास्टिक से मुक्त करने की अपील करते हुए मोदी ने कहा कि प्लास्टिक से उपजे कचरे की समस्या अब गंभीर हो गई है। उन्होंने कहा- यह कचरा पर्यावरण के लिए तो घातक है ही, पशुओं का जीवन भी इस प्लास्टिक की वजह से खतरे में है।

उन्होंने एक हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करते हुए पशुधन के संरक्षण से जुड़ी कई योजनाओं की शुरुआत की। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय पशु आरोग्य मिशन शुरू करते हुए कहा- पशुधन हमेशा से भारत की अर्थव्यवस्था का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा रहा है। पशुधन के बिना भारत के गांवों की अर्थव्यवस्था में सुधार संभव नहीं है। उन्होंने भगवान श्रीकृष्ण को पूरे देश के लिए प्रेरणा स्रोत बताते हुए कहा कि मथुरा नगरी के लोगों ने हमेशा से प्रकृति व पशुओं के संरक्षण, स्वास्थ्य और संवर्धन की दिशा में काम किया है।

प्रधानमंत्री ने ओम और गाय के बहाने विपक्ष पर तीखा हमला किया। उन्‍होंने कहा- ओम शब्‍द सुनते ही कुछ लोगों के कान खड़े हो जाते हैं, कुछ लोगों के कान में गाय शब्‍द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं, उनको करंट लग जाता है। उनको लगता है कि देश 16वीं-17 वीं सदी में चला गया है। ऐसे लोगों ने ही देश को बरबाद कर रखा है। उन्होंने कहा कि भारत की गांवों की अर्थव्यवस्था में पशुधन बहुत मूल्यवान है।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories