• [EDITED BY : H MOHAN] PUBLISH DATE: ; 16 April, 2019 03:00 PM | Total Read Count 99
  • Tweet
सत्ता के लिए राष्ट्रविरोधियों का हाथ ना थामें भाजपा: शिवसेना

मुंबई। शिवसेना साफ तौर पर मोदी सरकार को चेताया है कि संसद में बहुत पाने के लिए धारा 370 और 35 (ए) का समर्थन करने वाले दलों से हाथ ना मिलाया जाए। अगर ऐसा होता है तो यह सहूलियत का राष्ट्वाद है। शिवसेना का इशारा पीडीपी, नेकां, राकांपा की तरफ है। शिवसेना ने चिंता जताई कि हमारे विरोध के बावजूद भाजपा ऐसा कर चुकी है।

जम्मू-कश्मीर को देश से अलग करने की मांग करने वालों को फटकार लगाने के लिए नरेन्द्र मोदी की सराहना करते हुए शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री यह भी सुनिश्चित करें कि चुनाव के बाद बहुमत ना होने की स्थिति में भी पीडीपी, नेकां, राकांपा राजग का हिस्सा ना हों।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी लोगों को दो बातों का आश्वासन भी दें कि कल, सरकार गठन के लिए कितनी भी सीटों की दरकार हो, देश को बांटने की बात करने वालों के साथ कोई संबंध नहीं होना चाहिए। जिन्होंने कश्मीरियों की तीन पीढ़ियां बर्बाद की। उन्हें मोदी के मंत्रिमंडल या राजग में जगह नहीं मिलनी चाहिए।

शिवसेना ने कहा कि हालांकि यह अच्छी बात है कि प्रधानमंत्री ने देश को बांटने की कोशिश करने वालों के खिलाफ बोला। लेकिन देश को बांटने की चाह रखने वालों का समर्थन करने पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार के खिलाफ मोदी का यह रुख चुनाव के बाद भी कायम रहना चाहिए। शिवसेना ने कहा कि जो देश को बांट रहे हैं और जो उनका समर्थन कर रहे हैं। उन्हें भविष्य में राजनीति में जगह नहीं मिलनी चाहिए। अगर आज राष्ट्र विरोधियों का समर्थन करने वाले लोग राजनीतिक कारणों से राष्ट्रवादियों के साथ आते हैं, तो यह हमारे जवानों का अपमान होगा।

शिवसेना ने दावा किया कि अनुच्छेद 370 से अशांत उत्तरी राज्य को विशेषाधिकार मिलते हैं और देश का कानून वहां लागू नहीं होता। इसे खत्म किए जाने की कई वर्षों से मांग की जा रही है। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने भाजपा को फारूख अब्दुल्ला के अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में एक मंत्री होने और नेकां के राजग का हिस्सा होने की बात याद दिलाते हुए कहा कि उनकी पार्टी की, अनुच्छेद 370 और 35 (ए) को लेकर नीति सदियों पुरानी है। उसने आरोप लगाया कि इसके बावजूद हम संसद में बहुमत के लिए बार-बार उनसे हाथ मिलाते हैं। यह सहूलियत का राष्ट्रवाद है।

शिवसेना ने कहा कि पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती का भी जम्मू-कश्मीर के इन संवैधानिक प्रावधानों पर यही रुख है और उन्होंने आगाह भी किया है कि विशेष दर्जा खत्म किए जाने पर राज्य भारत का हिस्सा नहीं रहेगा। उसने कहा, ‘कल तक, वह भाजपा के समर्थन से मुख्यमंत्री थीं। उनकी राष्ट्र विरोधी मानसिकता सदियों पुरानी है। फिर भी हमारे विरोध करने के बावजूद भाजपा उनसे हाथ मिला लेती है।’

शिवसेना ने नाराजगी भी जताई है कि मोदी ने कश्मीरी पंडितों के विस्थापन के बारे में भी कहा था। हलांकि पिछले पांच साल में उनकी घर वापसी नहीं हो सकी है।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories