• [POSTED BY : News Desk] PUBLISH DATE: ; 03 September, 2019 02:18 PM | Total Read Count 27
  • Tweet
करियर में सफलता चाहिए तो अपनाएं ये टिप्स

हर व्यक्ति जीवन में आगे बढऩे की योजना बना रहा है, पर कुछ ही ऐसे इंसान होते हैं जो सफल हो पाते हैं। जब आप सुनिश्चित नहीं होते हैं कि आप किस प्रकार की नौकरी चाहते हैं या आप अपने कैरियर के साथ आगे क्या करना चाहते हैं, तो योग्यता परीक्षा आपको अपनी नौकरी के विकल्प को कम करने में मदद कर सकती है और आपको एक कैरियर मार्ग चुनने में मदद कर सकती है जो आपके हितों, कौशल, मूल्यों के अनुकूल हो। , और व्यक्तित्व। करियर परीक्षण आपको इस बारे में ठोस विचार दे सकते हैं कि आपको क्या करना चाहिए, केवल एक अवसर के लिए जो आपको करना चाहिए।

अनुभवों से सीखने की कोशिश

आप अपने जीवन से लगातार सीखते हैं। अगर आप ने अपनी गलतियों से ही सीखना बंद कर दिया तो आप बार-बार गलत निर्णय लेंगे। ऐसा कहा भी जाता है कि हम अपनी गलतियों को ही अनुभवों का नाम देते हैं। एक बार आप अपनी क्षमताओं को ठीक तरह से पहचान गए तो आप उनका प्रभावी इस्तेमाल कर सकेंगें। हार से उबरने और नई शुरुआत करने के तरीके का अनुभव आपके हमेशा काम आएगा। एक कहावत है कि मूर्ख आदमी गलतियों से कोई सबक नहीं लेता, समझदार अपनी गलतियों से सबक लेता है और बुद्धिमान दूसरों की गलतियों से भी सबक लेता है।

वैज्ञानिक सोच को दें महत्व

आपको स्थितियों को भांपते हुए वैज्ञानिक सोच के साथ फैसला करना चाहिए कि आपके लिए पुराने लक्ष्य पर टिके रहना कितना फायदेमंद है। किसी पुराने लक्ष्य पर टिके रहने और नई शुरुआत के साथ जुड़े रिस्क फैक्टर के बीच संतुलन बनाने का काम आपको ही करना पड़ता है। इसके लिए आपको अपनी स्थितियों के अनुसार फैसले लेने होते हैं। याद रखिए कि अगर आप पुराने लक्ष्यों पर अड़े रहेंगें तो आप भविष्य में आने वाले किसी सुनहरे मौके को हाथों-हाथ नहीं ले पाएंगे।

अपनी क्षमताओं पर गौर करें

अपनी क्षमताओं का मूल्यांकन करना  जरूरी है। आप हर फील्ड में एक्सपर्ट नहीं हो सकते। हर इंसान की अपनी कमजोरियां और खूबियां होती हैं, जिनका ठीक-ठीक पता उस व्यक्ति को ही होता है। अगर यह सोचते हैं कि आप दुनिया के हर काम को पूरे परफेक्शन के साथ कर लेंगे तो ऐसा सोचना गलत है। प्रसिद्ध गणितज्ञ रामानुजन बचपन से ही मेधावी छात्र थे। गणित में उनकी प्रतिभा का लोहा सभी मानते थे, लेकिन गणित में रुचि होने के बावजूद वह मद्रास में लिपिक के पद पर काम कर रहे थे क्योंकि उन्हें लगता था कि गणित में शोध कार्य करने के बजाय वह बतौर लिपिक अच्छा काम कर पाएंगे। जल्द ही उन्हें यह अहसास हुआ कि उनका भविष्य गणित में ही है और उसके बाद उन्होंने अपने लिपिक के पद से त्यागपत्र दे दिया। रामानुजन ने अपनी प्रतिभा को पहचाना और उसके अनुसार फैसला किया।

खुद को पहचानने से फायदा

आपने यह तो सोच लिया कि आपको डॉक्टर बनना है या पुलिस ऑफिसर, लेकिन क्या आपने अपनी कमजोरियों का सही तरीके से आकलन कर लिया? जी हां, हम लक्ष्य तय करने में कई बार बहुत जल्दी कर देते हैं या यूं कहें कि उससे जुड़े महत्वपूर्ण बिंदुओं पर हम गौर ही नहीं कर पाते। उदाहरण बतौर एक आदमी जो दिल का इतना कमजोर है कि गोली चलाना तो दूर उसकी आवाज से घबरा जाता है, वह पुलिस ऑफिसर कैसे बन सकता है! इसी तरह जो इंजेक्शन लगते नहीं देख सकता वह डॉक्टर कैसे बन सकता है! इसलिए पहले खुद को पहचानें और फिर कॅरियर चुनें। खुद को पहचानने के बाद आप अपनी क्षमताओं का सही दिशा में विकास कर सकते हैं।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories